scriptIt has been 48 hours since the death of student leader Anis Khan | छात्र नेता आनिस खान की मौत के 48 घंटे हो गए, लेकिन नहीं उठा रहस्य से पर्दा | Patrika News

छात्र नेता आनिस खान की मौत के 48 घंटे हो गए, लेकिन नहीं उठा रहस्य से पर्दा

दूसरे दिन भी नाराज लोगों ने किया प्रदर्शन
-एसएफआई और डीवाईएफआई ने किया आमता थाने का घेराव, पुलिस से की धक्का-मुक्की
-बुद्धिजीवियों की एक टीम मिली आनिस के परिजनों से
-आनिस के पिता ने की सीबीआइ से जांच कराने की मांग
-डीजीपी ने ग्रामीण पुलिस अधीक्षक को बुलाया, ली मामले की जानकारी
-फॉरेंसिक की टीम ने किया नमूनों को संग्रह

कोलकाता

Published: February 21, 2022 04:40:27 pm

कोलकाता. छात्र नेता आनिस खान की मौत हुए 48 घंटे हो गए, लेकिन अभी भी मौत से रहस्य का पर्दा नहीं उठ पाया है। इससे नाराज हो लोगों ने रविवार को भी कोलकाता से आमता तक प्रदर्शन किया। छात्र संगठन एसएफआई और डीवाईएफआई ने आमता थाने का घेराव भी किया। इस दौरान पुलिस के साथ उनकी धक्का-मुक्की भी हुई। बुद्धिजीवियों की एक टीम आनिस के परिजनों से मिली। आनिस के पिता ने स्थानीय पुलिस पर सवाल उठाते हुए इस मामले की जांच सीबीआइ से कराने की भी मांग की। मामले की गंभीरता को देखते हुए राज्य पुलिस के महानिदेशक मनोज मालवीय ने ग्रामीण पुलिस अधीक्षक को राज्य पुलिस मुख्यालय भवानी भवन बुलाकर मामले के बारे में जानकारी ली। इस बीच फॉरेंसिक की एक टीम मौके पर गई और वहां से कुछ नमूनों को संग्रह की। हर तरफ से पुलिस पर दबाव दिया जा रहा है कि जल्द से जल्द मामले पर से रहस्य का पर्दा उठाया जाए। आरोपी जो भी हो उनको गिरफ्तार किया जाए। वैसे छात्र नेता के परिजन पहले ही पुलिस पर ही हत्या करने का आरोप लगा चुके हैं। उनकी शिकायत के आधार पर जांच भी शुरू हो गई है।
छात्र नेता आनिस खान की मौत के 48 घंटे हो गए, लेकिन नहीं उठा रहस्य से पर्दा
छात्र नेता आनिस खान की मौत के 48 घंटे हो गए, लेकिन नहीं उठा रहस्य से पर्दा
पुलिस को घेरा

आमता के शारदा साउथ खा पाड़ा में छात्र आनिस खान की मौत को लेकर रविवार को गुस्साए ग्रामीणों व उसके परिजनों ने जांच के लिए मौके पर पहुंची पुलिस को घेर लिया। जमकर उनके खिलाफ नारेबाजी की। विरोध प्रदशर्न किया गया। पुलिस टीम को घेर कर वापस जाओं के नारे भी लगाए गए। पुलिस की टीम में एक सहायक उपनिरीक्षक सहित तीन पुलिस वाले पहुंचे थे। लोगों के गुस्से को देखते हुए पुलिस की टीम वहां से जांच किये बिना उल्टे पांव वापस लौट गई। पुलिस ने आरोप लगाया कि आनिस के घर के समीप जब जांच के लिए वे पहुंचे तो परिजनों या अन्य स्थानीय लोगों ने सहयोग नहीं किया। इस वजह से वे लौट आये। जबकि गुस्साए लोगों का कहना था कि डेढ़ दिन बाद पुलिस गांव में पहुंची। इसलिए वे पुलिस से नाराज हैं। इस घटना के बाद पुलिस किसी तरह की जांच क्यों नहीं की। अभी तक किसी को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया।
जांच के लिए फॉरेंसिक टीम पहुंची

स्थानीय थाने के पुलिस अधिकारी के साथ बाद में फॉरेंसिक टीम आनिस खान के घर जांच करने के लिए पहुंची। उस समय भी पुलिस के खिलाफ ग्रामीणों ने दुबारा नारेबाजी के साथ प्रदर्शन किया। फॉरेंसिक टीम ने उस जगह की जांच की जहां आनिस गिरा था। उस जगह को सफेद रंग से मार्क कर घेर दिया गया। दीवार से उस जगह को मापकर जांच की गई और वहां से कुछ नमूने भी संग्रह किए गए। फॉरेंसिक टीम के सदस्यों ने आनिस के परिवार और पुलिस से इस बात की जानकारी ली कि जब आनिस छत से नीचे गिरा था तो उस समय उसका सिर किस तरफ और पैर किस तरफ था। फॉरेंसिक टीम ने छत और बरामदे सभी जगहों का घूमकर बारीकी से जांच की। फॉरेंसिक टीम ने मीडिया के सवाल पर कहा कि जांच के बाद ही इस संबंध में वे कुछ बोल पायेंगे।
आनिस के पिता ने सीबीआई जांच की मांग की

आनिस के पिता सालाम खान ने एक चौकानेवाला खुलासा करते हुए कहा कि घटना की रात वे आमता थाने में फोन कर घटना की जानकारी दिए थे। लेकिन पुलिस तब नहीं आई। तब पुलिस वाले यह बता रहे थे कि गश्ती वैन दूसरी जगह गई है। इस तरह मौके पर नहीं जाने के लिए वे बहाना बनाते रहे। सुबह नौ बजे पुलिस आकर शव ले गई। यही नहीं, परिवार को जानकारी दिये बिना ही आनिस के शव का पोस्टमार्टम करा दिया गया। इसलिए उन्हें पुलिस पर भरोसा नहीं है। वे इस घटना की सीबीआइ से जांच कराने की मांग करते हंै।
हत्या की जांच शुरू

पुलिस ने परिजनों के आरोपों के आधार पर आनिस खान की हत्या की जांच शुरू कर दी है। प्रारंभिक जांच के बाद आमता थाने की पुलिस ने दावा किया कि पुलिस की कोई टीम शुक्रवार की रात आनिस के घर नहीं गई थी। पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि पुलिस की वर्दी में छात्र नेता के घर कौन गए थे। आनिस की स्थानीय स्तर पर किसी के साथ कोई दुश्मनी तो नहीं थी। वह जलसे की रात कहां-कहां गया था। इस बात का पता लगाया जा रहा है।
आमता थाने के समक्ष घेराव व प्रदर्शन

छात्र संगठन एसएफआई व डीवाईएफआई ने केल्लातल्ला से एक विशाल जुलूस निकालकर आमता थाने का घेराव किया। इस दौरान आमता थाने की पुलिस की ओर से लगाये गये बैरीकेडिंग को जुलूस में शामिल लोगों ने तोडऩे का प्रयास किया। पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की गई। इस दौरान पुलिस के साथ धक्का- मुक्की भी की गई। अंत में थाना प्रभारी को एक ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें पांच दिनों के अंदर आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की गई। इस मौके पर डीवाई एफआई प्रदेश अध्यक्ष ध्रुवज्योति साहा, हावडा़ जिला कमेटी के पूर्व अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार राय, जिला सचिव सरोज दास, सुभाष दे, एसएफआई राज्य अध्यक्ष प्रतिकूर रहमान, मयूख विश्वास, शिल्पा मंडल, सौरभ मंडल आदि नेतृत्व सहित बड़ी संख्या में समर्थक आमता थाने तक पहुंचे।

घर पहुंचे बुद्धिजीवी

आनिस की मौत की सूचना मिलते ही बुद्धिजीवियों की एक टीम रविवार को आनिस के घर पहुंची। उनके पिता सालाम खान से मिली और घटना के बारे में जानकारी ली। इस टीम में बुद्दिजीवी कौशिक सेन और बोलन गंगोपाध्याय के अलावा अन्य और कई लोग शामिल थे। कौशिक ने इस दु:ख के समय में उनके साथ रहने का अश्वासन भी दिया।

पुलिस महानिदेशक ने ली जानकारी

राज्य के पुलिस महानिदेशक मनोज मालवीय की ओर से तलब किए जाने पर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक सौम्य राय ने रविवार को भवानी भवन में जाकर उनसे मुलाकात की। पुलिस महानिदेशक ने उनसे इस मामले के संबंध में और पुलिस की जांच के बारे में विस्तृत जानकारी ली। मालूम हो कि पुलिस अधीक्षक ने छात्र नेता की हत्या की जांच के लिए पहले ही डीएसपी स्तर के अधिकारी से जांच कराने की घोषणा कर दी है। उसके अनुसार रविवार की सुबह से ही जांच शुरू हो गई है। पुलिस अधीक्षक को तलब करने की खबर के बाद से ही हावड़ा ग्रामीण पुलिस पूरी तरह से सक्रिय हो गई है। यहां तक कि आमता थाने में महिला पुलिस और अन्य पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ा दी गई है। इसके अलावा पुलिस की टीम इलाके में लगातार गश्त लगा रही है। थाने में रैफ व कैम्बैट फोर्स को भी तैनात किया गया है।
---
होगी कठोर कार्रवाई : पुलिस अधीक्षक
पुलिस अधीक्षक सौम्य राय ने पत्रकारों को बताया कि जांच जारी है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कठोर कारवाई की जाएगी। चल रही जांच के दौरान किसी तरह का बयान नहीं दूंगा। पुलिस को सूचना मिलने के बाद पुलिस देर से गई। इस पर उन्होंने कहा कि जांच में ऐसा पाये जाने पर कड़ी कारवाई की जाएगी। आनिस खान के खिलाफ आमता और डोमजूर में कुछ मामले थे। इस पर ज्यादा नहीं बता पाऊंगा। जांच से जुड़ा मामला है। उन्होंने कहा परिवार के लोगों की ओर से शिकायत मिलते ही थाने में पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर उसकी जांच डीएसपी स्तर के अधिकारी की अगुवाई में शुरु कर दी है। पुलिस ने घटना के दिन क्यों नहीं रेस्पॉन्स की? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि शव को पोस्टमार्टम के लिए पुलिस ने ही भेजा है। पुलिस अपनी ओर से इस घटना की जांच हर पहलुओं पर कर रही है। आनिस के घर पुलिस के जाने की घटना पर उन्होंने कहा कि इसकी जांच की जा रहीं है। डीजीपी से मिलने की बात पर उन्होंने कहा यह पुलिस डिपार्टमेंट का अंदरुनी मामला है।
---
आनिस के घर पहुंचे अब्दुल मन्नान

आनिस खान के घर राज्य के पूर्व विरोधी दल के नेता अब्दुल मन्नान भी पहुंचे। उनके साथ कांग्रेस नेता आशुतोष चट्टोपाध्याय और पूर्व विधायक आशीष मित्रा भी थे। उन्होंने आनिस के पिता सालाम खान से मुलाकात की और उनसे बातचीत की। उन्हें आश्वासन दिया कि इस दु:ख के समय में वे उनके साथ हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.