JMB: जेएमबी ने दहलाने का बना लिया था प्लान

- घर से मिले डेटोनेटर, कंप्यूटर और सेलफोन

-एसटीएफ ने उत्तर दिनाजपुर जिले से 2 को किया था गिरफ्तार

By: Rakesh Mishra

Published: 05 Sep 2019, 10:43 PM IST

कोलकाता (Kolkata)

उत्तर दिनाजपुर जिले से गिरफ्तार 2 संदिग्ध जेएमबी आतंकवादियों अब्दुल बारी और निजामुद्दीन खान के घर से कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने डेटोनेटर, कंप्यूटर और दो सेलफोन बरामद किए है। कंप्यूटर और सेलफोन की जांच में पता चला है कि ये लोग बड़े पैमाने पर आतंकवादियों की भर्ती और प्रशिक्षण देने के काम में जुटे थे। एसटीएफ का कहना है कि वे सीधे जेएमबी के शीर्ष नेतृत्व के निर्देशों पर काम कर रहे थे। तलाशी अभियान में जेएमबी आतंकी के घर से आपत्तिजनक पत्रिका, लेख व अन्य सामग्री जब्त किए गए हैं। मालूम हो कि एसटीएफ के जवानों ने 3 सितम्बर को जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) के दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया था।
बुधवार को एसटीएफ ने आतंकियों के घर तलाशी अभियान चलाया। इस दैरान अब्दुल बारी के घर से डेटोनेटर, कंप्यूटर, सेल फोन और जेहाद से जुड़े लेख और पत्रिका बरामद किए है। जिला पुलिस अधिकारियों के मुताबिक एक अन्य संदिग्ध जेएमबी संचालक निजामुद्दीन खान (28) के घर भी तलाशी अभियान चलाया गया। लेकिन उसके घर से कोई भी जब्ती नहीं हुई। अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि मुर्शिदाबाद जिले के लालगोला पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत मोकिमनगर मदरसे को अपना ठिकाना बनाया था। पिछले कुछ महीनों में वह वहां पर कई बार गया था।

ज्ञात हो कि 2014 के बर्दवान विस्फोट की जांच करते समय, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारियों को पता चला कि मोकिमनगर मदरसे का इस्तेमाल जिहादियों के निर्वासन और प्रशिक्षण के लिए किया गया था, जिसे बाद में उसे सील कर दिया। 3 सितम्बर को एसटीएफ ने जेएमबी के उत्तर दिनाजपुर मॉड्यूल के प्रभारी अब्दुल बारी और निजामुद्दीन खान को गिरफ्तार किया। ये लोग संगठन के दो शीर्ष नेताओं सलाहुद्दीन सलाहीन और एजाज अहमद के निर्देशों पर भर्ती और प्रशिक्षण का काम करते थे। इसके पहले यानी 2 सितम्बर को कोलकाता में ईस्ट कैनाल रोड से जेएमबी आतंकी अबुल कासिम को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया था। उससे पूछताछ में बारी और खान के बारे में पता चला।
अब्दुल बारी कुख्यात आतंकी है, इस पर उसके गांव वाले ( उत्तर दिनाजपुर जिले का कासिमपुर गांव) विश्वास नहीं कर रहे हैं। बारी के मामा मुशर्रफ हुसैन का कहना है कि हम यह नहीं मानते हैं कि वह किसी आतंकवादी संगठन के साथ या आतंकवादियों की भर्ती से जुड़ा था। हमें यकीन है कि उसे फंसाया गया है। बारी स्थानीय पैथोलॉजिकल लेबोरेटरी में काम करता था। मालदह जिले के शम्सी इलाके से एसटीएफ ने उसे जब दबोचा उससे पहले वह नौ दिनों तक गायब था। उसके परिवार ने इटाहार पुलिस स्टेशन में गुमशुदगी दर्ज कराई थी।

Rakesh Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned