केन्द्र के निर्णय का जूट उद्योग ने किया स्वागत

खाद्यान्नों की पैकेजिंग शत प्रतिशत जूट के बोरों में किए जाने के केंद्रीय कैबिनेट के फैसले का पश्चिम बंगाल (West Bengal) की जूट मिलों ने स्वागत किया है।

By: Paritosh Dube

Published: 29 Oct 2020, 09:40 PM IST

कोलकाता. केन्द्रीय कैबिनेट के गुरूवार को खाद्यान्न पैकिंग में शत-प्रतिशत जूट के बैग के इस्तेमाल करने के निर्णय का जूट उद्योग ने स्वागत किया है। कैबिनेट ने खाद्यान्नों का शत-प्रतिशत व चीनी की पैकिंग में 20 प्रतिशत जूट के बैग के इस्तेमाल का आवश्यक करने का निर्णय लिया है।
जूट उद्योग ने केंद्र सरकार के इस निर्णय को दिवाली का उपहार बताया है। जूट उद्योग से जुड़े लोगों के मुताबिक केंद्र के इस निर्णय से पश्चिम बंगाल की 55 जूट मिलों में काम बढ़ेगा, जूट की मांग बढ़ेगी। जिससे लाखों जूट उत्पादकों व मिलों के श्रमिकों का भला होगा।
इंडियन जूट मिल एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष संजय कजरिया ने कहा कि वे केंद्रीय कैबिनेट की ओर से कोविड-19 के संक्रमण काल के दौरान लिए गए इस निर्णय का स्वागत करते हैं। इससे जूट के किसान व श्रमिकों को दिवाली का उपहार मिलना तय है।
एक अन्य जूट मिल मालिक ने कहा कि केंद्र के इस निर्णय से कई मिलो को अपना उत्पादन बनाए रखने में मदद मिलेगी।
आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी की गुरुवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में खाद्यान्नों की पैकिंग में शत-प्रतिशत व चीनी की पैकिंग में 20 प्रतिशत जूट के बैग के इस्तेमाल को आवश्यक करने का निर्णय लिया गया है। केंद्र के इस निर्णय के बाद बंगाल, बिहार, ओडिसा, असम, आंध्र प्रदेश, मेघालय, त्रिपुरा के जूट किसानों व श्रमिकों को फायदा होने की उम्मीद है।

Paritosh Dube Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned