सुइयां चुभोकर बच्ची को मारा, मां और उसके प्रेमी को फांसी

पुरुलिया जिले में तीन साल की बच्ची की सुइयां चुभोकर नृशंस ढंग से हत्या के मामले में पुरुलिया जिला फास्र्ट ट्रैक कोर्ट ने बच्ची की मां मंगला गोस्वामी और उसके प्रेमी सनातन ठाकुर को मंगलवार को फांसी की सजा सुनाई।

By: Rabindra Rai

Published: 22 Sep 2021, 04:34 PM IST

पुरुलिया जिला फास्र्ट ट्रैक कोर्ट का फैसला
दोनों की शादी की राह में रोड़ा थी बच्ची
कोलकाता. पुरुलिया जिले में तीन साल की बच्ची की सुइयां चुभोकर नृशंस ढंग से हत्या के मामले में पुरुलिया जिला फास्र्ट ट्रैक कोर्ट ने बच्ची की मां मंगला गोस्वामी और उसके प्रेमी सनातन ठाकुर को मंगलवार को फांसी की सजा सुनाई। इस वारदात को जुलाई, 2016 में अंजाम दिया गया था। बच्ची उनकी शादी की राह में रोड़ा थी। फिर दोनों ने उसके शरीर में सात सुइयां चुभोकर उसे घर में बंद कर दिया था। लगभग एक सप्ताह बीत जाने के बाद पड़ोस के लोगों को घटना के बारे में पता चला। उसके बाद बच्ची को पुरुलिया के देवेन महतो सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल के डॉक्टरों ने जब बच्ची की जांच की, वे तो चौंक गए। उसके पूरे शरीर पर गहरे घाव के निशान पाए गए। एक्स-रे में बच्ची के शरीर के अंदर सात बड़ी सुइयां दिखाई दी।
--
शरीर से सात सुइयां निकालीं
बच्ची को कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल में स्थानांतरित किया गया था, जहां उसकी मौत हो गई थी। एसएसकेएम हॉस्पिटल में 18 जुलाई को चिकित्सकों ने सर्जरी करके बच्ची के शरीर से सात सुइयां निकाली, लेकिन 21 जुलाई को एसएसकेएम हॉस्पिटल में बच्ची ने दम तोड़ दिया।
--
37 गवाहों के बयान
सरकारी अधिवक्ता अनवर अली ने मीडिया को बताया कि इस मामले में कुल 37 गवाहों के बयान एवं सबूत के आधार पर न्यायाधीश ने यह सजा सुनाई।
--
2016 में कोर्ट में चार्जशीट
पुलिस ने 12 सितंबर 2016 को कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की। चार साल की लंबी सुनवाई के बाद दोनों को पुरुलिया जिला अदालत में रमेश कुमार प्रधान की अदालत में दोषी करार दिया गया था।
--
बताता था नौकरानी
कोर्ट में फांसी की सजा पर सुनवाई के बाद सनातन पूरी तरह खामोश था। हालांकि मंगला बार-बार रही है कि वह निर्दोष हैं। पति ने उसे छोड़ दिया था। उसके बाद रिटायर्ड होमगार्ड जवान सनातन उसे अपने साथ रखता था। पड़ोस के लोगों को सनातन मंगला को नौकरानी बताता था।
--
मंदिर से दबोचा
पुलिस ने 29 जुलाई 2016 को उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के पिपिड़ थाना क्षेत्र के रेणुकोट के एक मंदिर से सनातन को गिरफ्तार किया था। पुलिस की आंखों में धूल झोंकने के लिए सनातन वहां साधु के रूप में रह रहा था।

Rabindra Rai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned