बंगाल में कांग्रेस-माकपा समझौता नहीं होने का सच

बंगाल में कांग्रेस-माकपा समझौता नहीं होने का सच

Prabhat Kumar Gupta | Publish: Mar, 17 2019 03:32:30 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 03:32:31 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

लोकसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ माकपा के साथ सीटों पर समझौैते को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

- आलाकमान के निर्देश के इंतजार में प्रदेश कांग्रेस
- माकपा से सीटों पर समझौैते पर भेजी रिपोर्ट
कोलकाता.
लोकसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ माकपा के साथ सीटों पर समझौैते को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। राज्य माकपा नेताओं के साथ करीब 10 बार बैठक करने का सकारात्मक नतीजा नहीं आने से प्रदेश कांग्रेस नेताओं में नाराजगी है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सोमेन मित्रा ने इस संदर्भ में विस्तृत रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को भेजी है। प्रदेश कांग्रेस के नेताओं को आलाकमान के निर्देशों का इंतजार है।

इधर, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष तथा राज्यसभा सांसद प्रो. प्रदीप भट्टाचार्य ने शनिवार को विधानसभा परिसर में पत्रिका से बातचीत में कहा कि माकपा राज्य में पूर्ण रूप से गठबंधन के पक्ष में पारदर्शी नहीं है। ऐसे में सीटों पर समझौते की बात बेमानी है। उन्होंने कहा कि वाममोर्चा चेयरमैन विमान बोस शुक्रवार को 25 उम्मीदवारों की सूची जारी किए, जो असम्पूर्ण है। यही नहीं पुरुलिया और बसीरहाट संसदीय सीट को लेकर बोस का बयान से स्पष्ट है कि वे लोग सम्पूर्ण रूप से गठबंधन नहीं चाहते। वाम नेता दो तरह की बातें कर रहे हैं। कांग्रेस सांसद ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस अगले दो तीन दिनों के भीतर अपने उम्मीदवारों की सूची जारी कर देगी। इससे पहले रविवार को एक बार फिर प्रदेश चुनाव समिति की बैठक निर्धारित है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned