West Bengal: लॉक डाउन में ज्यादती:7-8 पुलिसकर्मियों को हटाया

कोरोना वायरस का प्रकोप पश्चिम बंगाल में एक ही दिन तेजी से बढ़ा। शुक्रवार को राज्य में सबसे अधिक 5 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही राज्य में कोरोना पीडि़तों की संख्या बढ़ कर 15 हो गई है, जबकि अब तक एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। पीडि़तों में नौ माह व 6 साल की बच्ची, 11 साल का बच्चा तथा 27 व 45 वर्ष की दो महिलाएं शामिल हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी मेडिकल बुलेटिन में यह जानकारी दी गयी है

By: Rabindra Rai

Published: 27 Mar 2020, 10:15 PM IST

सीएम ममता ने पुलिस को दी मानवीय होने की नसीहत. कोरोना: उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज में अब होगी जांच
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को बताया कि लॉक डाउन के दौरान ज्यादती को लेकर 7-8 पुलिसकर्मियों को ड्यूटी से हटा दिया गया है। लोगों ने पुलिस ज्यादती को लेकर 12 शिकायतें की है। उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मियों को और अधिक मानवीय होने की जरूरत है। उन्होंने एक तरफ पुलिस को लॉकडाउन के निर्देशों को कड़ाई से लागू करने तथा दूसरी ओर जनता के प्रति दोस्ताना व्यवहार करने की बात कही। ममता ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान कोई अपने घरों से निकला है तो इसका मतलब यह नहीं कि उस पर लाठी बरसाई जाए। जरूरी चीजें या राशन खरीदने से पुलिस किसी को रोक नहीं सकती है। पुलिस कर्मियों का यह दायित्व बनता है कि वह पूछताछ करें और जरूरत पडऩे पर लोगों की सहायता करें।
उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस की जांच अब उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में होगी। राज्य सचिवालय नवान में शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर बंगाल में कोरोना वायरस की जांच का काम सांकेतिक रूप से शुरू हो गया। उन्होंने कोलकाता के विभिन्न बाजारों में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई पर संतोष जताया है। उन्होंने दावा किया कि बाजारों में आवश्यक वस्तुओं की कमी नहीं है। राज्य के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा के नेतृत्व में गठित टास्क फोर्स दिन में कम से कम 3 बार बैठक कर स्थिति की समीक्षा कर रही है।
--
30 विशेषज्ञ चिकित्सकों का दल रवाना
सीएम के निर्देश पर साल्टलेक स्थित स्वास्थ्य भवन से 30 विशेषज्ञ चिकित्सकों का दल शुक्रवार को उत्तर बंगाल के लिए रवाना हो गया। उत्तर बंगाल से किसी संदिग्ध पीडि़त को जांच के लिए कोलकाता नहीं आना पड़े यह सुनिश्चित करने के लिए ही स्वास्थ्य विभाग ने उत्तर बंगाल में विशेषज्ञ चिकित्सकों को भेजा है।
--
फिलहाल मुफ्त में देंगे एक महीने का राशन
ममता ने कहा कि राज्य सरकार राज्यवासियों को फिलहाल 1 महीने का राशन मुफ्त में देगी। लॉकडाउन के कारण जनजीवन अस्त व्यस्त है। वर्तमान परिस्थिति में सरकार अपने सामथ्र्य अनुसार राज्य के लोगों को राहत पहुंचाने का प्रयास कर रही है। फिलहाल राज्यवासियों को 1 महीने का मुफ्त राशन सरकार देना सुनिश्चित कर दिया गया है। अगले 3 महीने तक मुफ्त राशन देना संभव होगा कि नहीं इस पर बाद में निर्णय लिया जाएगा।

Corona virus कोरोना वायरस
Rabindra Rai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned