Big Attack of Mamata: 2019 का लोकसभा चुनाव इतिहास नहीं, रहस्‍य

Big Attack of Mamata: 2019 का लोकसभा चुनाव इतिहास नहीं, रहस्‍य

Rabindra Rai | Updated: 21 Jul 2019, 04:10:41 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

Lok Sabha election में Blow shock लगने के बाद लोगों के दिलों को जीतने में लगीं Trinamool Congress chief and West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee ने शहीद दिवस के बहाने रविवार को Show her strength in Kolkata

कोलकाता
लोकसभा चुनाव में करारा झटका लगने के बाद लोगों के दिलों को जीतने में लगीं तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने शहीद दिवस के बहाने रविवार को कोलकाता में अपनी ताकत दिखाई। महानगर के धर्मतल्ला में लाखों पार्टी समर्थकों को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने अपने पूरे भाषण में ईवीएम, नोटबंदी, हिंदू-मुसलमान, बांग्‍ला के बहाने भाजपा पर जमकर हमला बोला। बेहद आक्रामक तेवर में ममता ने भाजपा को डकैतों की पार्टी बताते हुए दावा किया कि 2019 का लोकसभा चुनाव इतिहास नहीं बल्कि रहस्‍य है। लोकसभा चुनावों में भाजपा ने धोखेबाजी की, पार्टी ने ईवीएम, सीआरपीएफ और चुनाव चुनाव का इस्‍तेमाल लोकसभा चुनाव जीता। भाजपा को पश्चिम बंगाल में केवल 18 सीटें मिली हैं। इसके बाद भी वे हमारी पार्टी के कार्यालयों पर कब्‍जा कर रहे हैं और हमारे लोगों को पीट रहे हैं। मैं चुनाव आयोग से अनुरोध करती हूं कि पंचायत और नगर निगम के चुनाव बैलट पेपर से कराए जाएं।
चुनाव की सरकारी फंडिंग की भी मांग
उन्‍होंने कहा कि लोकतंत्र को बचाने और चुनाव के दौरान कालेधन के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए देश में चुनाव सुधार जरूरी है। तृणमूल प्रमुख ने चुनाव की सरकारी फंडिंग की भी मांग की। उन्होंने कहा कि यह मत भूलिए कि पहले इंग्‍लैंड, फ्रांस, जर्मनी और अमरीका में भी ईवीएम का इस्तेमाल किया गया। लेकिन अब उन्होंने उसका इस्तेमाल करना बंद कर दिया है तो ऐसे में हम क्यों मतपत्र वापस नहीं ला सकते?
ममता बनर्जी ने कहा कि 1995 से मैं चुनाव सुधार की मांग करती आ रही हूं। यदि हम चुनाव में कालेधन का इस्तेमाल रोकना चाहते हैं, लोकतंत्र को बचाना चाहते हैं और राजनीतिक दलों में पारदर्शिता कायम करना चाहते हैं तो चुनाव सुधार करने ही होंगे। उन्होंने कहा कि चुनाव की सरकारी फंडिंग जरूरी है क्योंकि राजनीतिक दल चुनाव के दौरान कालेधन का इस्तेमाल करते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned