माझेरहाट ब्रिज हादसा: मलबे से और एक शव मिला, मृतकों की संख्या तीन हुई

माझेरहाट ब्रिज हादसा: मलबे से और एक शव मिला, मृतकों की संख्या तीन हुई

Ashutosh Kumar Singh | Publish: Sep, 06 2018 10:37:05 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

- घायलों में से दो की हालत अभी भी गंभीर, मृतकों की संख्या बढऩे की आशंका

कोलकाता

मारझेरहाट ब्रिज हादसे में मृतकों की संख्या बढक़र तीन हो गई। गुरुवार सुबह मलबे से और एक जने का शव मिला। मृतक की पहचान मुर्शिदाबाद जिला निवासी गौतम मंडल (45) के रूप में हुई है। वह रेल विकास निगम का ठेका श्रमिक था। इससे पहले बुधवार की रात मलबे से प्रणव दे उर्फ उदय (24) नामक एक श्रमिक का शव मिला था। हादसे के दिन बाइक सवार सोमेन बाग (21) की एसएसकेएम अस्पताल में मौत हो गई थी। मृतकों की संख्या और बढऩे की आशंका जताई जा रहा है। कारण, हादसे में घायल 13 जने का अभी भी अस्पताल में इलाज चल रहा है। इनमें से दो जने की हालत अभी भी चिंताजनक बनी हुई है। मलबा हटाने का काम गुरुवार को लगभग समाप्त हो गया। एनडीआरएफ की टीम ने राहत व बचाव कार्य बंद कर दिया है। एनडीआरएफ के डिप्टी कमाण्डेन्ट एस.एस. खत्री ने कहा कि राहत व बचाव कार्य फिलहाल बंद कर दिया गया है। 4 सितम्बर से एनडीआरएफ की 5 टीमें लगातार राहत व बचाव कार्य कर रही थीं। उल्लेखनीय है कि लगभग ५४ साल पुराना माझेरहाट ब्रिज का एक हिस्सा मंगलवार शाम लगभग साढ़े चार बजे अच्ाानक ढह गया था। हादसे में 27 लोग घायल हुए थे। इनमें से तीन की मौत हो गई। बाकी 24 में से 11 जने को अस्पताल छुट्टी दे दी गई । 13 लोगों का अभी भी अस्पताल में इलाज चल रहा है।
-------
जांच की जिम्मेदारी खुफिया पुलिस को

माझेरहाट ब्रिज हादसा:

-एसआईटी का हुआ गठन

-कुछ प्रत्यक्षदर्शियों के बयान रिकार्ड

कोलकाता

तीन लोगों को मौत की नींद सुला देने वाले माझेरहाट ब्रिज हादसे की जांच की जिम्मेदारी कोलकाता पुलिस के खुफिया विभाग को सौंपी गई है। खुफिया पुलिस ने मामले की जांच के लिए स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) का गठन किया है। कोलकाता खुफिया पुलिस के संयुक्त आयुक्त प्रवीण त्रिपाठी ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जांच शुरू कर दी गई है। कुछ प्रत्यक्षदर्शियों के बयान रिकार्ड किए गए हैं। उन्होंने बताया कि अलीपुर थाने में दर्ज केस नम्बर-215 के तहत एसआईटी ने जांच शुरू की है। 4 अगस्त को पुलिस ने स्वत: संज्ञान लेते हुए अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड विधान (भादवि) की धारा-304/308/427/34के तहत मामला दर्ज किया था। अभी तक मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। सूत्रों के अनुसार खुफिया पुलिस के विशेष आयुक्त डॉ. बी. वरुण चंद्रशेखर के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है। टीम में कुल 18 पुलिस अधिकारी शामिल हैं।

---------

गलत ढंग से मरम्मत बना हादसे का कारण

माझेरहाट ब्रिज हादसा :

-10 माह पहले पड़ी थी ब्रिज में दरार

-प्राथमिक जांच के आधार पर फॉरेन्सिक विशेषज्ञों का अनुमान

कोलकाता

माझेरहाट ब्रिज हादसा अचानक नहीं हुआ है। हादसे की नींव 10 महीने पहले ही पड़ गई थी। ब्रिज के ज्वाइंट के पास हल्की दरार (हेयर लाइन क्रैक) पड़ी थी। सही ढंग से उसकी मरम्मत नहीं की गई। यह ब्रिज के टूटने का मुख्य कारण बना। मामले की जांच में जुटे फॉरेन्सिक के विशेषज्ञों ने प्राथमिक जांच के आधार पर यह अनुमान लगाया है। विशेषज्ञों के अनुसार जहां से ब्रिज टूटा है। वहां एक दरार देखी गई है। दरार को देखने से लगता है कि वह लगभग दस महीने पहले पड़ी थी। उसकी मरम्मत सहीं ढंग से नहीं की गई। दरार को ठीक से भरने के बजाए वहां पिच का लेप कर दिया गया था। इससे दबाव और बढ़ गया। अधिक दबाव के कारण दरार दिन-ब-दिन चौड़ी होती गई और ४ सितम्बर को ब्रिज टूट गया। हालांकि फॉरेन्सिक कमेटी ने अभी तक अपनी रिपोर्ट नहीं सौंपी है। इस सिलसिले में जांच अभी बाकी है।

 

Ad Block is Banned