कोलकाता में ममता के लिए सभा मंच तैयार

धर्मतल्ला में शनिवार को प्रस्तावित शहीद दिवस के लिए सभा मंच तैयार हो गया है।

By: Prabhat Kumar Gupta

Published: 20 Jul 2018, 10:11 PM IST

 

शहीद दिवस
- सीएम ने किया सभास्थल का मुआयना

- नियंत्रित हुआ सडक़ परिवहन
कोलकाता.

धर्मतल्ला में शनिवार को प्रस्तावित शहीद दिवस के लिए सभा मंच तैयार हो गया है। महारैली में हिस्सा लेने के लिए राज्य के कोने-कोने से तृणमूल कांग्रेस समर्थक महानगर में जुट गए हैं। तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो तथा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार शाम सभास्थल का मुआयना किया। बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने की संभावना के म²ेनजर प्रशासन ने चुस्त सुरक्षा व्यवस्था की है। कोलकाता के करीब एक दर्जन से अधिक प्रमुख मार्गों पर सडक़ परिवहन को नियंत्रित कर दिया गया है।

किया खेद व्यक्त-

सभास्थल का मुआयना करने के बाद ममता ने संवाददाताओं को बताया कि रैली को लेकर उमड़ी भीड़ के कारण महानगर की ट्रैफिक व्यवस्था प्रभावित हो सकती है। इसके लिए आमलोगों को होनेवाली असुविधाओं के लिए खेद व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि धर्मतल्ला में पिछले २४ साल से वह शहीद दिवस रैली का आयोजन कर रही हैं। साल में एक बार उनकी रैली से लोगों को परेशानी होती है। उन्होंने प्रशासन को हर संभव व्यवस्था करने को कहा है।
सतर्कता बरतने की अपील-

ममता ने शहीद दिवस रैली में आने वाले कार्यकर्ताओं को सुरक्षा के प्रति सतर्क रहने की अपील की है। जुलूस के साथ रैली में शामिल होने वालों के संदर्भ में ममता ने कहा कि एम्बुलेंस और दमकल की गाडिय़ों के लिए रास्ता छोडऩे में देर नहीं किए जाएं।
मंच पर दिखेंगे कुछ नए मेहमान-

माना जा रहा है कि भाजपा के पूर्व राज्यसभा सांसद चंदन मित्रा, माकपा के पूर्व सांसद मैनुल हसन, कांग्रेस विधायकों अबू ताहेर खान, समर मुखोपाध्याय, अखरूज्जमां, शबिना यास्मिन सरीखे नेता ममता के साथ नजर आएंगे। तृणमूल नेतृत्व ने इन्हें बतौर विशेष आमंत्रित प्रतिनिधि के रूप में बुलाया है।
वक्ता की सूची में अभिषेक बनर्जी-

शहीद दिवस रैली की सभा मंच पर इस बार ममता के भतीजे व डायमण्डहार्बर के सांसद अभिषेक बनर्जी वक्ता के रूप में दिखेंगे। शहीद दिवस रैली में वक्तव्य रखने का यह पहला मौका होगा। मुकुल राय के भाजपा में शामिल होने के बाद से तृणमूल कांग्रेस में अभिषेक का कद दिनों दिन बढ़ता गया। पार्टी महासचिव डॉ. पार्थ चटर्जी के अनुसार पार्टी में नए चेहरों को प्राथमिकता दी जा रही है।

ड्रोन से होगी निगरानी-

कोलकाता पुलिस ने शहीद दिवस रैली में उमड़ी भीड़ पर मानवरहित यान ड्रोन से निगरानी करने का निर्णय लिया है। सभा स्थल के आसपास के बहुमंजिली इमारतों पर अत्याधुनिक सीसीटीवी भी लगाए गए हैं। दूसरी ओर, सीईएससी मुख्यालय विक्टोरिया हाउस के ऊपरी मंजिल पर विशेष वॉच टावर भी स्थापित किया गया है।
बंद रहेंगी ये सडक़ें

राज्य सरकार के निर्देश पर कोलकाता पुलिस ने शहीद दिवस रैली में उमड़ी भीड़ के मद्देनजर महानगर की कुछ सडक़ों पर वाहनों को नियंत्रित किया है। जबकि अगले 24 घंटे तक के लिए कुछ सडक़ों के किनारे वैध पार्किंग पर अंकुश लगाई गई है।
-जवाहर लाल नेहरु रोड

-स्ट्रैण्ड रोड
-एस.एन.बनर्जी रोड

-लेनिन सरणी
-सेंट्रल एवेन्यू

-बेंटिक स्ट्रीट
--

क्या है शहीद दिवस-

21 जुलाई 1993 को तत्कालीन प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में ममता बनर्जी ने मतदान के अधिकार और मतदाता पहचान पत्र बनाने की मांग पर राइटर्स बिल्डिंग घेरने का आह्वान किया था। प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में युवा कांग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की मौत हो गई थी। उक्त घटना के बाद से ममता हर साल इस दिन को शहीद दिवस के रूप में मनाती हैं।

Prabhat Kumar Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned