ममता बनर्जी सरकार इस तरह क्षतिग्रस्त बुनकरों को पहुंचा रही राहत

पश्चिम बंगाल सरकार ने लॉकडाउन के कारण राज्य में क्षतिग्रस्त हुए बुनकरों को राहत पहुंचाने का निर्णय लिया है। बुनकर परिवारों में खुशियां लौटाने की दिशा में जोरदार पहल की जा रही है।

By: Prabhat Kumar Gupta

Updated: 22 Jun 2020, 09:10 PM IST

कोलकाता.
पश्चिम बंगाल सरकार ने लॉकडाउन के कारण राज्य में क्षतिग्रस्त हुए बुनकरों को राहत पहुंचाने का निर्णय लिया है। बुनकर परिवारों में खुशियां लौटाने की दिशा में जोरदार पहल की जा रही है। बंगाल में तांत, हैंडलूम और पावरलूम के उत्पादों को खुद खरीदने का अभियान चलाया है। तांत उद्योग बहुल राज्य के जिलों हुगली, नदिया, बांकुड़ा, मुर्शिदाबाद, उत्तर 24 परगना, पूर्व व पश्चिम मिदनापुर, बर्दवान में तांत हाट लगाकर तांत की विभिन्न प्रकार की साड़ियां और अन्य वस्त्रों की खरीदारी करने की सरकार की योजना है।

राज्य सरकार की संस्था 'तंतुज' इस दिशा में जोरदार पहल करने जा रही है। सूत्रों ने बताया कि सीएम ममता बनर्जी के निर्देशानुसार तंतुज के अधिकारी नदिया जिले के शांतिपुर व फुलिया, हुगली के धनियाखाली और बेगमपुर, बर्दवान के समुद्रगढ़, धात्रीग्राम, कटवा और केतुग्राम तथा बांकुड़ा के विष्णुपुर में फिलहाल बुनकरों से सीधे समन्वय स्थापित करते हुए उनके समस्त उत्पादों की खरीदारी करेंगे।
करीब 7 लाख बुनकर परिवार प्रभावितः
पश्चिम बंगाल में लॉकडाउन के दौरान करीब 7 लाख बुनकर परिवार आर्थिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए हैं। बाजार बंद रहने तथा परिवहन व्यवस्था पूरी तरह ठप रहने के कारण बुनकर अपना उत्पाद ना तो बाजारों में बेच ही सके और ना ही इनका उत्पादों की दूसरे राज्यों सहित विदेशों में भेजा ही जा सका। फलस्वरूप बुनकरों के समक्ष पेट भर भोजन की समस्या खड़ी हो गई। राज्य के लघु उद्योग विभाग के मंत्री स्वपन देवनाथ ने सोमवार को पत्रिका को बताया कि राज्य के बुनकरों को तत्काल राहत पहुंचाने के उद्देश्य से सरकार ने ऐसा निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि तंतुज ने फिलहाल बर्दवान के धात्रीग्राम में बुनकरों से उनके उत्पादों की खरीदारी शुरू की है।

Show More
Prabhat Kumar Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned