हिन्दीभाषियों को लुभाने के लिए ममता ने उठाया यह कदम

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हावड़ा में प्रस्तावित हिन्दी विश्वविद्यालय पश्चिम बंगाल के लिए गर्व होगा। जहां हर जाति व धर्म के हिन्दीभाषी बच्चे पढ़ेंगे।

By: Prabhat Kumar Gupta

Published: 05 Sep 2019, 09:20 PM IST


- विधानसभा ने पारित किया विधेयक
कोलकाता.
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हावड़ा में प्रस्तावित हिन्दी विश्वविद्यालय पश्चिम बंगाल के लिए गर्व होगा। जहां हर जाति व धर्म के हिन्दीभाषी बच्चे पढ़ेंगे। राज्य में हिंदी भाषियों की बड़ी संख्या को ध्यान में रखते हुए हिन्दी माध्यम के और शिक्षण संस्थानों को स्थापित करने को इच्छुक है। राज्य विधानसभा में गुरुवार को हिंदी विश्वविद्यालय, पश्चिम बंगाल विधेयक, 2019 पारित हो गया। विधेयक पर सदन में करीब दो घंटे की चर्चा हुई। विधेयक पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नया विश्वविद्यालय राज्य को नई राह दिखाएगा। राज्य में बन रहा हिंदी विश्वविद्यालय सौहार्द और एकता का प्रतीक के रूप में स्थापित होगा। हिन्दी भाषा और हिन्दी साहित्य को और अधिक समृद्ध बनाना सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने शिक्षा विभाग से विश्वविद्यालय के निर्माण का काम जल्द शुरू करने का आग्रह किया। ममता ने कहा कि सरकार इसके लिए पहले ही जमीन का अधिग्रहण कर चुकी है। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में काफी हिंदी भाषी लोग रहते हैं। हम झाडग़्राम में एक विश्वविद्यालय बना रहे हैं। प्राय: सभी जिलों में विश्वविद्यालय बनाने की सरकार की योजना है। राज्य सरकार ने विभिन्न भाषाओं को मान्यता दी है। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक हिंदी माध्यम के स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय स्थापित किये जाने को महत्व दिया जाना चाहिये। हिन्दीभाषी समाज की ओर से इस बारे में लंबे समय से मांग की जा रही थी। चर्चा में विपक्ष के नेता अब्दुल मन्नान और वामो विधायक दल के नेता डॉ. सुजन चक्रवर्ती ने भी हिस्सा लिया।
विवि. का नामकरण मुंशी प्रेमचंद के नाम पर हो:
प्रमुख विपक्ष कांग्रेस और वाममोर्चा ने हिन्दी विश्वविद्यालय विधेयक पर चर्चा के दौरान कहा कि हावड़ा में प्रस्तावित विवि. का नामकरण हिन्दी के प्रसिद्ध लेखक मुंशी प्रेमचंद के नाम पर करने का प्रस्ताव रखा। हालांकि राज्य सरकार इस संदर्भ में हिन्दी के विद्वानों, लेखकों और अध्यापकों से सुझाव लेने पर विचार कर रही है।

Show More
Prabhat Kumar Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned