कांग्रेस-वाममोर्चा की हड़ताल का सामना करेगी ममता सरकार

कांग्रेस-वाममोर्चा की हड़ताल का सामना करेगी ममता सरकार

Prabhat Kumar Gupta | Publish: Sep, 08 2018 10:21:04 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

राज्य सरकार ने हड़ताल के वक्त राज्य में आम जनजीवन सामान्य रखने का ना केवल भरोसा दिया है, केंद्र सरकार के विरोध में उक्त मुद्दों का समर्थन करने के बावजूद तृणमूल कांग्रेस ने हड़ताल से खुद को अलग रखा है।

 

- तृणमूल करेगी विरोध, सरकार बहाल रखेगी सामान्य जनजीवन
- गैर हाजिर रहने पर सरकारी कर्मचारियों का कटेगा वेतन

कोलकाता.

पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्यों में अप्रत्याशित वृद्धि सहित कई अन्य मुद्दों पर कांग्रेस और वाम दलों ने सोमवार (10 सितम्बर) को 12 घंटे की हड़ताल का आह्वान किया है। केंद्र सरकार के विरोध में उक्त मुद्दों का समर्थन करने के बावजूद तृणमूल कांग्रेस ने हड़ताल से खुद को अलग रखा है। पार्टी महासचिव तथा राज्य के शिक्षा मंत्री डॉ. पार्थ चटर्जी ने आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा की है। दूसरी ओर, राज्य सरकार ने हड़ताल के वक्त राज्य में आम जनजीवन सामान्य रखने का ना केवल भरोसा दिया है बल्कि राज्य सरकार के कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति अनिवार्य करते हुए फरमान जारी कर दिया है। वित्त विभाग ने समस्त कर्मचारियों के संदर्भ में इसे जारी किया है। जिसमें कहा गया है कि हड़ताल के दिन कार्यालयों में उपस्थिति अनिवार्य होगी। ऐसा नहीं करने पर कर्मचारी को ना केवल एक दिन के वेतन का नुकसान सहना होगा बल्कि कारण बताओ नोटिस का सामना भी करना पड़ेगा। 48 घंटे के भीतर नोटिस का जवाब नहीं देने पर विभागीय कार्रवाई की जाएगी। हालांकि वित्त विभाग ने अपने फरमान में यह स्पष्ट कर दिया है कि ७ सितम्बर से पहले से अस्वस्थ रहने या अस्पताल में भर्ती रहने की स्थिति में कर्मचारी को उपयुक्त सबूत के बाद छूट मिल सकती है। परिवार में किसी का देहांत होने पर अथवा मातृत्वकालीन छुट्टी पर या 7 से पहले से अवकाश पर रहने की स्थिति में कर्मचारी उक्त कार्रवाई से बच सकता है। वित्त विभाग के सूत्रों के अनुसार तबीयत खराब रहने या परिवहन साधन नहीं रहने के कारण कार्यालय में अनुपस्थित होने की बात सरकार नहीं मानेगी। हड़ताल के दिन सुबह या दोपहर के बाद के समय का कोई आक्समिक (सीएल) छुट्टी की अर्जी स्वीकार्य नहीं की जाएगी।

सडक़ परिवहन सामान्य रखने का भरोसा-
राज्य प्रशासन के निर्देशानुसार परिवहन विभाग हड़ताल के दौरान सडक़ परिवहन सामान्य रखने की कवायद में है। विभागीय मंत्री शुभेन्दू अधिकारी के अनुसार कोलकाता सहित उपनगरों तथा जिलों में सडक़ परिवहन को सामान्य रखा जाएगी। कोलकात के सभी रूटों में पर्याप्त संख्या में सरकारी बसें उतारने की तैयारी है। परिवहन विभाग ने निजी बसों व मिनी बसों तथा टैक्सी ऑपरेटरों को सोमवार को आमदिनों की तरह सक्रिय रहने का आग्रह किया है।

Ad Block is Banned