ममता ने माना पंचायत में हुई हिंसा

MANOJ KUMAR SINGH

Publish: May, 17 2018 11:29:40 PM (IST)

Kolkata, West Bengal, India
ममता ने माना पंचायत में हुई हिंसा

चुनाव में मारपीट हुई, खून बहा और हत्या हुई। लेकिन चुनावी हिंसा में सबसे अधिक उनकी पार्टी के कार्यकर्ता ही मारे गए है और इसके लिए भाजपा जिम्मेदार है।

प्रिसाइडिंग अधिकारी की मौत की जांच करेगी सीआईडी

कहा, लेकिन भाजपा के हमले में मारे गए अधिकतर तृणमूल कार्यकर्ता
कोलकाता.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को माना कि पंचायत चुनाव में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी दलों में मुकाबला हुआ और हिंसा भी हुई है। हिंसा के लिए उन्होंने भाजपा को जिम्मेदार ठहराते हुए उस पर दूसरे राज्यों और बांग्लादेश से लोगों को ला कर राज्य में हिंसा फैलाने का आरोप लगाया और सीआईडी को प्रिसाइडिंग अधिकारी की मौत की जांच करने का निर्देश दिया।
पंचायत चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की क्लिीन स्वीप पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव में उनकी पार्टी से मुकाबला हुआ है। माकपा, कांग्रेस, भाजपा और माओवादी, सभी ने मिल कर तृणमूल से मुकाबला किया। उन्होंने कहा कि चुनाव में मारपीट हुई, खून बहा और हत्या हुई। लेकिन चुनावी हिंसा में सबसे अधिक उनकी पार्टी के कार्यकर्ता ही घायल हुए है। हिंसा में मारे गए लोगों में भी सबसे अधिक उनकी पार्टी के कार्यकर्ता ही हैं और इसके लिए भाजपा जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस का मुकाबला नहीं कर पाने पर भाजपा ने झारखण्ड और असम सहित अन्य राज्यों से धन बल और लोगों को ला कर बंगाल में हिंसा फैलाई। इस दौरान उन्होंने केन्द्र सरकार पर राजनीति से प्रेरित हो कर काम करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं की शिकायत पर केन्द्रीय गृह मंत्रालय राज्य को फोन कर उस बारे में पूछता है और उस बारे में जांच करने के लिए कहता है। ये कैसी सरकार चल रही है। पार्टी की बात सुन रही है। बीएसएफ का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। उन्हें शर्म भी नहीं आती। उन्होंने कहा कि चुनावी हिंसा में भाजपा का कोई भी नहीं मरा है। फिर भी भाजपा झूठा प्रचार कर रही है। हजारों की संख्या में विपक्षी दल के उम्मीदवार नामांकन दाखिल किए। माओवादियों ने भी वाट्सएेप के जरिए नामांकन दाखिल किया। फिर वे क्यों झूठा प्रचार कर रहे हैं कि उन्हें नामांकन दाखिल नहीं करने दिया गया। उन्होंने कहा कि भाजपा और निर्दलीय विजयी उम्मीदवार उनसे संपर्क कर रहे हैं। वे उनसे बाद में बात करेंगी। इस दौरान उन्होंने मतदान के दौरान मारे गए प्रिसाइडिंग अधिकारी के परिजनों को मुआवजा देने और मामले की सीआईडी जांच कराने का आदेश दिया।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned