West Bengal Assembly Elections 2021:ममता बनर्जी ने जारी किया चुनावी घोषणा पत्र, खोला वादों का पिटारा

- घोषणा पत्र: लोगों के घर तक पहुंचाया जाएगा राशन
- निम्न आय वर्ग के लोगों को 6 हजार, गरीब एससी और एसटी को सालाना 12 हजार रुपए
- विद्यार्थियों को विशेष क्रेडिट कार्ड, 5 लाख नौकरी समेत 10 वादे

By: Ashutosh Kumar Singh

Updated: 17 Mar 2021, 10:44 PM IST

कोलकाता

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 ( West Bengal Assembly Elections 2021) के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने वादों का पिटारा खोलते हुए बुधवार को पार्टी का घोषणापत्र जारी किया। उन्होंने कहा कि वह बेहतर और समृद्ध बंगाल के निर्माण के लिए 10 वादे कर रही हैं। ये वादे अगले पांच सालों के लिए राज्य के विकास का रोडमैप होगा। उन्होंने ऐलान किया कि तृणमूल सरकार फिर सत्ता में लौटी तो डोर स्टेप डिलीवरी की शुरुआत होगी। लोगों के घर तक राशन पहुंचाया जाएगा। मई से विधवा पेंशन के तौर पर एक हजार रुपए दिए जाएंगे। निम्न आय वर्ग के लोगों को सालाना छह हजार रुपए दिए जाएंगे। गरीब एससी और एसटी को सालाना 12 हजार रुपए दिए जाएंगे। ममता बनर्जी ने विद्यार्थियों के लिए 10 लाख रुपए तक के विशेष क्रेडिट कार्ड देने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि हम बेरोजरागी को कम करेंगे। एक साल में पांच लाख नौकरी के अवसर तैयार करेंगे। 10 लाख एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम) इकाइयां स्थापित करेंगे। ममता बनर्जी ने अपनी तबीयत का भी जिक्र करते हुए कहा कि मेरा स्वास्थ्य खराब होने के कारण घोषणा पत्र जारी करने में देर हुई।
--
इन समुदायों को लाएंगे ओबीसी के वर्ग में
तृणमूल प्रमुख ने कहा कि वह मंडल आयोग की तरफ से मान्यता प्राप्त समुदायों जैसे माहिष्य, तिली, तामुल और साहा को ओबीसी वर्ग में लाने की जांच और इसकी सिफारिश करने के लिए विशेष कार्यबल बनाएंगी। इसके साथ ही मालदा जिले के कुछ हिस्सों में अनुसूचित जनजाति के रूप में रहने वाले किसान जाति की मांगों को पूरा करने का उन्होंने आश्वासन दिया। वह महतो समुदाय को अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने के लिए केंद्र सरकार के साथ आक्रामक रवैया अपानाएंगी। उन्होंने कहा कि हम कन्याश्री, रूपश्री, स्वास्थ साथी योजनाओं को जारी रखेंगे। हर साल चार महीने दुआरे सरकार योजना चलती रहेगी। राज्य के हर परिवार की न्यूनतम कमाई को सुनिश्चित किया जाएगा। पिछले कुछ सालों में राज्य में लोगों की कमाई दो गुनी हुई है। 68 लाख किसानों की मदद की जाएगी।
--
बंगाल का राजस्व बढ़कर 75 हजार करोड़
ममता ने कहा कि जब तृणमूल कांग्रेस की सरकार सत्ता में आई थी तो बंगाल का राजस्व 25 हजार करोड़ रुपए था जो कि अब बढ़कर 75 हजार करोड़ रुपए हो गया है। उन्होंने कहा कि यह राजनीतिक घोषणापत्र नहीं है, यह विकासोन्मुखी घोषणा पत्र है। यह लोगों का, लोगों के लिए और लोगों द्वारा घोषणापत्र है। ममता बनर्जी ने घोषणापत्र को तुष्टीकरण बताने वाले एक सवाल के जवाब में कहा कि यह समय की जरूरत है, लोकतांत्रिक सरकार इस समय देश की जरूरत है।

---

प्रमुख घोषणाएं...
-किसानों के लिए वार्षिक वित्तीय सहायता 6 हजार से बढ़ा कर 10 हजार रुपए

-उच्चतर शिक्षा प्राप्त कर रहे छात्रों को 10 लाख रुपए की खर्च सीमा वाला क्रेडिट कार्ड, सिर्फ चार प्रतिशत ब्याज दर पर
- सामान्य श्रेणी के लिए 6,000 रुपए और पिछड़े समुदाय के लोगों के लिए 12,000 रुपए की न्यूनतम वार्षिक आय सुनिश्चित होगी
- बंगाल आवास योजना में 25 लाख घर बनाने के लिए मदद की जाएगी।
-पहाड़ी इलाकों में विकास के काम बढ़ाने के लिए पहाड़ विकास बोर्ड बनेगा
- विधवाओं को हर महीने दिए जाएंगे एक हजार रुपए

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021
Ashutosh Kumar Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned