monsoon update--in bengal-- बंगाल में इसी हफ्ते बरसेगी मानसून की बूंदें

monsoon update--in bengal-- बंगाल में इसी हफ्ते बरसेगी मानसून की बूंदें

Shishir Sharan Rahi | Updated: 20 Jun 2019, 09:55:55 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

south bengal में बरसात 22-23 को----कारण---bengal में एक साथ 2 साइक्लोनिक दबाव---weather dept. की रिपोर्ट

कोलकाता. बहुप्रतीक्षित मानसून बंगाल में इसी सप्ताह के अंत में प्रवेश करेगा। अफगानिस्तान में पश्चिम विक्षोभ के साथ दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश में चक्रवाती क्षेत्र बना है। एक अन्य चक्रवाती दबाव गांगेय बंगाल और बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पश्चिमी भागों पर है। उत्तर प्रदेश से बंगाल पर चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र होते हुए बंगाल की खाड़ी पर ट्रफ रेखा फैली है। अगले 24 घंटों के दौरान पूर्वोत्तर भारत, बंगाल, झारखंड में बारिश के आसार हैं। फिलहाल उत्तर प्रदेश से बंगाल की खाड़ी तक निम्न दबाव का क्षेत्र बना है जिससे बारिश हो रही। उसम-भीषण गर्मी से परेशान बंगवासियों के लिए अलीपुर मौसम विभाग ने गुरुवार को यह खबर दी। मौसम विभाग के पूर्वी क्षेत्रीय निदेशक जीसी देवनाथ ने बताया कि हालात ठीक रहे तो सप्ताह के अंत शनिवार-रविवार तक बंगाल के दक्षिणी हिस्से कोलकाता, हावड़ा, हुगली, दोनों परगना, मेदिनीपुर, पूर्व-पश्चिम बद्र्धमान में मानसून की बौछार पड़ेगी। 72 घंटे में बंगाल में दक्षिण-पश्चिम मानसून बढऩे के लिए स्थिति अनुकूल होगी। पहले 8 आठ जून को बंगाल में मानसून के आने की अटकलें मौसम विभाग ने लगाई थी, लेकिन स्थिति सामान्य नहीं रहने से ऐसा नहीं हुआ। उधर उत्तर बंगाल और सिक्किम में मौसमी हवाओं से लगातार बारिश जारी है। इससे पहले मौसम विभाग ने कहा था कि प्री-मानसून की बारिश गुरुवार से होगी।

-मानसून ने तोड़ा 14 साल का रिकॉर्ड
इस बार मानसून ने लेट होने का 14 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया। क्योंकि सामान्य रूप से बंगाल में 8 जून तक मानसून दस्तक देता है इस बार सूखा रहा। 2005 में 20 जून को बंगाल में मानसून आया था। 1983 में 26 जून, 1986 में 20, 1992, 1995 और 2014 में 18 जून, 1993, 2003, 2012 और 2016 में 17 जून को आया था मानसून। इस बार मानसून में देरी का कारण मौसम विशेषज्ञों ने अल नीनो-चक्रवाती तूफान वायु को बताया। इसके अलावा इस वर्ष जून तक बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र नहीं बना।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned