क्या डर के मारे चुप हैं ममता - मुकुल

क्या डर के मारे चुप हैं ममता - मुकुल

Manoj Kumar Singh | Publish: Jan, 13 2018 08:50:29 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

उलुबेडिय़ा और नोवापाड़ा उपचुनाव में केन्द्रीय बल तैनात करने की मांग

कोलकाता

भाजपा नेता मुकुल राय ने शुनिवार को भाजपा कार्यकर्ताओं पर हुए हमले के मामले में चुप्पी साधने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर तीखा वार किया। ममता बनर्जी पर माकपा का अनुशरण करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री से इस मामले में उनकी चुप्पी साधने का कारण पूछा। इसके साथ ही चुनाव आयोग से उलुबेडिय़ा लोकसभा और नोवापाड़ा विधानसभा उपचुनाव में केन्द्रीय बल तैनात करने की मांग की।
मुकुल राय ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं पर तृणमूल कांग्रेस के हमले के मुद्दे पर राज्य की पुलिस मंत्री चुप क्यों हैं। क्या वे इस घटना से डर के मारे चुप्पी साध रखी हैं। अगर ऐसा नहीं है तो उनके चुप्पी के पीछे का राज क्या है। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी माकपा का अनुशरण कर रही है। एक समय माकपा भी विरोधी दलों पर हुए हमले को ले कर ऐसा ही करती थी। वे इस दिन कोलकाता स्थित राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) से मुलाकात करने के बाद संवाददाताओं से बात कर रहे थे। उनके साथ प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष जय प्रकाश मजुमदार, प्रदेश महासचिव देवश्री चौधरी सहित अन्य नेता उपस्थित थे।

इससे पहले उन्होंने राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी से मुलाकात की और उनसे राज्य के उलुबेडिय़ा लोकसभा और नोवापाड़ा विधानसभा उपचुनाव शान्तिपूर्ण और निष्पक्ष रूप से कराने के लिए केन्द्रीय बल तैनात करने की मांग की। उन्होंने कहा कि राज्य में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। राज्य पुलिस निष्पक्ष चुनाव नहीं करा सकती। इसलिए दोनों केन्द्रों के उपचुनाव शान्तिपूर्ण और निष्पक्ष रूप से कराने के लिए हमने केन्द्रीय चुनाव आयोग से केन्द्रीय बल तैनात करने की मांग की।
इस दौरान उन्हें तृणमूल कांग्रेस के विपक्ष में होने के दिनों की याद दिलाई। उन्होंने कहा कि इसी तरह वे विभिन्न मांगों को ले कर मुख्य चुनाव अधिकारी के पास आते थे। अभी भी लोगों को चुनाव आयोग पर विश्वास है। वर्ष 2011 में तृणमूल कांग्रेस के राज्य की सत्ता में आने से पहले वे तृणमूल कांग्रेस की ओर से राज्य में शान्तिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग को ले कर सीईओ के कार्यालय आते थे और अब भाजपा की ओर से वहीं मांग ले कर आ रहे हैं।

 

Ad Block is Banned