मुकुल राय से ईडी ने की पूछताछ

नारद स्टिंगकाण्ड में इंफोर्समेन्ट डायरेक्टोरेट (ईडी) ने गुरुवार को भाजपा नेता मुकुल राय से पूछताछ की

By: शंकर शर्मा

Published: 10 Nov 2017, 05:05 AM IST

कोलकाता. नारद स्टिंगकाण्ड में इंफोर्समेन्ट डायरेक्टोरेट (ईडी) ने गुरुवार को भाजपा नेता मुकुल राय से पूछताछ की। पहले कई बार ईडी ने उन्हें तलब किया था, लेकिन राजनीतिक व्यस्तता की बात कह कर वे हाजिर नहीं हुए थे।


गुरुवार की दोपहर लगभग ढाई बजे मुकुल राय साल्टलेक के सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित ईडी कार्यालय पहुंचे। केन्द्रीय जांच एजेन्सी के अधिकारियों ने उनसे कई घंटे तक पूछताछ की। नारद स्टिंग वीडियो में मुकुल राय मैथ्यू सैमुअल से बातचीत कर दिख रहे हैं। वे मैथ्यू से यह कहते हुए सुने जा रहे हैं कि उनका काम आईपीएस एसएमएच मिर्जा (मामले में आरोपी हैंं) देखते हैं। उनसे मिल लीजिए।


इसके अलावा वे तृणमूल कांग्रेस के कुछ नेताओं के नाम भी लेते भी सुने जा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार ईडी ने उनसे जानने की कोशिश की है कि मैथ्यू से उनकी क्या बातचीत हुई थी। उन्होंने मैथ्यू को मिर्जा और तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के साथ मुलाकात करने के लिए क्यों भेजा था।

मुकुल के करीबी एक और आईपीएस पर गिरी गाज
पश्चिम बंगाल सरकार ने नारदा स्टिंग मामले के आरोपी आईपीएस अधिकारी एस.एम.एच मिर्जा को सस्पेंड कर दिया है। मिर्जा हाल ही में भाजपा में शामिल हुए मुकुल राय के करीबी माने जाते हैं।


इससे पहले राज्य सरकार ने राय के करीबी एक और आईपीएस अधिकारी राजेश कुमार को सीआईडी विभाग से हाल ही में हटाया। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश पर पुलिस प्रशासन में मुकुल के करीबी पुलिस अधिकारियों को दरकिनार किया जा रहा है। हालांकि मिर्जा को सस्पेंड करने का प्रमुख कारण उनके खिलाफ चल रहे २०१२ साल की एक मामले को माना गया है।

उल्लेखनीय है कि नारदा स्टिंग मामले में मिर्जा का नाम आने पर विपक्ष ने उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी। सूत्रों ने बताया कि आईपीएस मिर्जा पर वर्ष २०१२ में एक सब इंस्पेक्टर को आत्महत्या के लिए विवश करने का आरोप है। मृत सब इंस्पेक्टर के परिजनों की शिकायत पर मिर्जा के खिलाफ विभागीय जांच जारी है। मिर्जा पर आरोप है कि मानसिक दबाव बढ़ाने के चलते ही सब इंस्पेक्टर ने आत्महत्या के लिए मजबूर हुआ था।


राजनीति के जानकार मिर्जा के खिलाफ कार्रवाई को मुकुल राय के भाजपा में शामिल होने से जोड़ रहे हैं। हालांकि राज्य पुलिस प्रशासन मिर्जा पर कार्रवाई को विभागीय कदम करार दे रहा है। गृह विभाग के हवाले से सूत्रों ने बताया कि मुकुल करीबी आईपीएस अधिकारी राजेश कुमार को सीआईडी के शीर्ष पद से तबादला सामान्य प्रशासनिक कदम है। इसका किसी व्यक्ति के राजनीतिक कदमों से जोडऩा गलत है।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned