बर्दवान में दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या

बर्दवान जिले के गलसी इलाके में दुष्कर्म के बाद एक महिला की हत्या की सनसनीखेज घटना सामने आई है

By: शंकर शर्मा

Published: 12 Nov 2017, 08:59 PM IST

कोलकाता. बर्दवान जिले के गलसी इलाके में दुष्कर्म के बाद एक महिला की हत्या की सनसनीखेज घटना सामने आई है। गरीब परिवार की महिला शुक्रवार को घर से खेत में काम करने के लिए निकली थी। शाम को धान खेत के नजदीक पड़ा उसका शव मिला। महिला के कपड़े अस्त-व्यस्त थे।

उसके सर के बाल धान की बालियों से बांधे हुए थे। घटना के संबंध में स्थानीय थाने में मामला दर्ज कराया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेजा गया है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या की गई है। पुलिस फिलहाल इस बारे में कुछ नहीं बोल रही है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद स्पष्ट होगा कि हत्या से पहले महिला के साथ दुष्कर्म हुआ था अथवा नहीं। स्थानीय लोगों में रोष है।

नाबालिग परिचारिका से दुष्कर्म
घर में काम करने के बहाने बुलाकर नाबालिक परिचारिका से दुष्कर्म करने वाले आरोपी शिक्षक को सरे आम पीटकर पुलिस के हवाले कर दिया गया। दक्षिण २४ परगना के बारुईपुर थाना इलाके के हरिहरपाड़ा में यह घटना घटी। आरोपी शिक्षक का नाम कौशल दे है। वह शुक्रवार शाम को अपनी नाबालिग परिचारिका को काम के बहाने बुलाकर उससे दुष्कर्म किया। जब परिचारिका बुरे हाल में बाहर निकली, तो लोगों ने उससे पूछा।

परिचारिका ने सबको सच्चाई बता दी। घटना के बारे में सुनते ही स्थानीय लोग कौशल के घर में घुस गए और उसकी जमकर पिटाई की। बाद में उसको पुलिस के हवाले कर दिया गया। परिचारिका के परिजनों ने शुक्रवार रात को बारुईपुर थाने में कौशल दे के खिलाफ दुष्कर्म क ी शिकायत दर्ज कराई।

जमीन विवाद: गर्भवती महिला को पीटा
हुगली. पाण्डुआ थाना इलाके के शिमलागढ़ शिवपुर कॉलोनी में शनिवार को जमीन विवाद को लेकर एक गर्भवती महिला पर हमला करने का मामला प्रकाश में आया है। इस संबंध में महिला ने थाने में लिखित तौर पर शिकायत दर्ज कराई है। यह आरोप परिवार के ही दो सदस्यों के खिलाफ लगाया गया है।


पुलिस ने बताया कि जिस गर्भवती महिला ने आरोप लगाया है उसके ही बड़े पिता के बेटे व अपने बेटे ने मिलकर यह हमला किया है। हमलावरों का आरोप है कि करीब 25 साल से वे कहीं अन्य जगह पर रहते थे।


लेकिन जमीन में हिस्सेदारी के लिए अब यहां आकर रहने लगे हैं। पूरा मामला कोर्ट के अधीन है। ऐसे में बिना किसी प्रमाण के ही वे कह रहे हैं कि यह जमीन उनकी है। उसी को लेकर विवाद हुआ। मार-पीट व हमले की बात गलत
है।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned