scriptNetaji mystery remain after decades | रेंको जी मंदिर की अस्थियों का हो डीएनए टेस्ट- चंद्रकुमार बोस | Patrika News

रेंको जी मंदिर की अस्थियों का हो डीएनए टेस्ट- चंद्रकुमार बोस

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सबसे गर्वीले और रहस्यमय व्यक्तित्व सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhas Chandra Bose) आज भी रहस्यों के कई आवरण में हैं। उनकी गुमशुदगी से धुंध छांटने के लिए तीन- तीन जांच कमीशन गठित किए जा चुके हैं। रिपोर्ट भी आ चुकी है। लेकिन भारतीय आजादी के संग्राम का सबसे बड़ा रहस्य अभी भी फाइलों की गुप्त भाषा, अंतरराष्ट्रीय कूटनीति के जाल में उलझा हुआ है। बोस परिवार से जुड़े, नेताजी रिसर्च ब्यूरो के सदस्य रहे चंद्रकुमार बोस ने पत्रिका से लंबी बातचीत में कई अनछुए पहलुओं को उजागर किया।

कोलकाता

Published: January 23, 2022 11:36:11 pm


कोलकाता.
1. आप बोस परिवार से जुड़े हुए हैं। नेताजी रिसर्च ब्यूरो का काम भी देख चुके हैं। ऐसा क्यों कहा जाता है कि सुभाष चंद्र बोस के साथ इतिहास ने न्याय नहीं किया।
चंद्रकुमार- नेताजी कांग्रेस के अध्यक्ष थे। नेताजी का लक्ष्य महाभारत के अर्जुन की तरह था। भारत की आजादी। कांग्रेस ने उन्हें बाहर निकाला, तो वे देश से बाहर गए। आजाद हिंद फौज का गठन किया। भारत की पहली स्वाधीन सरकार का 21 अक्टूबर 1943 को गठन किया। जिसे 11 देशों ने मान्यता दी थी। इतिहास की इस महत्वपूर्ण तारीख को गुम करने का 70 सालों तक प्रयास किया गया है।
2. क्या आपको लगता है कि कभी नेताजी की गुमशुदगी के रहस्य से पर्दा हट पाएगा और ऐसा करने के लिए क्या उपाय किए जाने चाहिए।
चंद्रकुमार- नेताजी की गुमशुदगी के रहस्य से पर्दा हटना ही चाहिए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि 18 अगस्त 1945 के बाद क्या हुआ था, यह देश की जनता जानना चाहती है। मोदी यह भी कह चुके हैं कि सुभाष बाबू की गुमशुदगी का रहस्य उद्घाटित करना देश की मांग नहीं है देश का कर्तव्य है।
14 अक्टूबर 2015 को प्रधानमंत्री के आवास में बोस परिवार से जुड़े लोगों की बैठक में प्रधानमंत्री ने गुप्त फाइलें सार्वजनिक करने की घोषणा की। जिन्हें टॉप सीक्रेट कहा गया गया था। 23 जनवरी 2016 से फाइलें सार्वजनिक होनी शुरू हो गईं। कुछ कुछ फाइलें 10 हजार बीस हजार पन्नों की हैं। उनकी समीक्षा के लिए स्कू्रटनी के लिए विशेषज्ञों की आवश्यक्ता है। एक्सपर्ट पैनल चाहिए। हम मांग करते हैं कि स्पेशल इन्वेसिटगेशन टीम बनाकर जांच को निर्णायक शक्ल दी जाए। कुछ सीक्रेट फाइलों के कूट संदेशों को सामने लाने के लिए रूसी खुफिया एजेंसी केजीबी की मदद चाहिए होगी। याद रहना चाहिए कि नेताजी की गुमशुदगी का रहस्य उद्घाटित करने के लिए गठित मुखर्जी कमीशन ने वर्ष 2006 में कहा था कि विमान दुर्घटना में नेताजी की मौत नहीं हुई थी। वे मंचूरिया के रास्ते रूस और चीन गए थे। यदि वे रूस में थे, तो केजीबी के पास उनका विवरण जरूर होगा। केजीबी की फाइल्स विशेषज्ञ ही समझ सकते हैं। मुखर्जी कमीशन ने केजीबी अधिकारियों से मुलाकात की थी। जिसके बाद कमीशन ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से अनुरोध किया था कि वे केजीबी को औपचारिक पत्र लिख कर जांच में सहयोग का अनुरोध करें। उन्हें यह जानकर बहुत दुख हुआ था कि मनमोहन सिंह के कार्यालय ने कमीशन को कोई जवाब ही नहीं दिया। अभी भी जापान के रेंको जी मंदिर में मौजूद नेताजी की कथित अस्थियों का डीएनए परीक्षण कराया जा सकता है। विज्ञान ने उन्नति कर ली है। जापान के मंदिर का प्रबंधन भी संपर्क करने पर कहता है कि अस्थियां तो आपके परिवार की ही हैं जब चाहे ले जाए। सरकार को इस दिशा में काम करना चाहिए।
रेंको जी मंदिर की अस्थियों का हो डीएनए टेस्ट- चंद्रकुमार बोस
रेंको जी मंदिर की अस्थियों का हो डीएनए टेस्ट- चंद्रकुमार बोस
3. देश में इन दिनों राष्ट्रनायकों की बड़ी बड़ी प्रतिमाओं के निर्माण का युग शुरू हुआ है। क्या आप भी सुभाष चंद्र बोस की बड़ी प्रतिमा लगाए जाने के समर्थक हैं।
चंद्रकुमार- बिल्कुल। सुभाष चंद्र बोस राष्ट्रीय नेता थे। गांधी और बोस दोनों का योगदान आजादी की लड़ाई में बराबर है। गांधी ने अहिंसा का रास्ता चुना तो बोस ने सशस्त्र आंदोलन किया। वे मांग करते हैं कि सुभाष चंद्र बोस या आजाद हिंद फौज का मेमोरियल लाल किले के सामने होना चाहिए। इसकी मजबूत वजह है। याद होगा कि वर्ष 1946 में आजाद हिंद फौज के जवानों का वॅार क्रिमिनल कह कर लाल किले में ट्रायल किया गया था। धूलाभाई देसाई ने आजाद फौज की पैरवी की, उन्होंने वार ट्रिब्यूनल के सामने तर्क दिया कि आईएनए भारत की स्वाधीन सरकार है। इसी ने भारत की आजादी की घोषणा की थी। इसलिए फौज से जुुड़े हुए लोग वार क्रिमिनल नहीं वॉर हीरो हैं। उनके इस तर्क से पूरा मामला ही धराशाई हो गया।
4. नेताजी की शख्शियत की ऐसी कौन से बातें हैं जो इस पीढ़ी के लिए प्रेरकहैं।
चंद्रकुमार- नेताजी का पूरा जीवन मिसाल है। उनकी सांगठनिक क्षमता, सबको साथ लेकर चलने की प्रवृत्ति, नारी समाज का सम्मान, सांप्रदायिक सौहाद्र्र का संदेश सब कुछ जीवन में उतारा जा सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Constable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाब30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नियुक्त किया नया पीएमSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोल'हिन्दी' बॉक्स ऑफिस पर 'बादशाहत': दक्षिण की फिल्मों का धमाल बॉलीवुड के लिए कड़ी चुनौतीHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हलHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.