विरासत के संरक्षण एवं पुनरुद्धार के लिए राज्य में नई नीति जल्द

विरासत के संरक्षण एवं पुनरुद्धार के लिए राज्य में नई नीति जल्द
kolkata news

Shankar Sharma | Publish: Apr, 18 2017 11:38:00 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

पश्चिम बंगाल सरकार सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण एवं पुनरुद्धार के लिए नई नीति बनाएगी। इस बावत एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया गया है

कोलकाता. पश्चिम बंगाल सरकार सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण एवं पुनरुद्धार के लिए नई नीति बनाएगी। इस बावत एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया गया है।

विश्व विरासत दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में वेस्ट बंगाल हेरिटेज कमिशन के सचिव उमापद चटर्जी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कमेटी ने काम करना शुरू कर दिया है। कई दौर की बैठक हो चुकी है। उम्मीद है कि बहुत जल्द ही सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण एवं पुनरुद्धार के संबंध में कुछ अच्छा सामने आएगा।

संशोधन पर विचार
उन्होंने कहा कि कमिशन वेस्ट बंगाल हेरिटेज एक्ट में संशोधन करने पर विचार कर रहा है। वर्तमान एक्ट में केवल निर्मित विरासत के संरक्षण और पुनरुद्धार के नियम हैं। नए एक्ट में अदृश्य विरासत जैसे मौखिक परम्पराएं, आट्र्स, सामाजिक क्रियाकल्प, संस्कार आदि के संबंध में भी प्रावधान रखे जाएंगे।

फैलाई जाएगी जागरूकता
चटर्जी ने कहा कि कमिशन सांस्कृतिक विरासत के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाएगा। उन्होंने कहा कि कमिशन पश्चिम बंगाल की विरासत को लेकर खुद की वेबसाइट बनाएगा। कुछ विरासत में प्रवेश शुल्क लगाने पर भी विचार किया जा रहा है। उससे होने वाली आय को उनके संरक्षण एवं पुनरुद्धार पर खर्च किया जाएगा।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned