अब न्यूटाउन में ट्राम चलाने की तैयारी

- पहल: प्रशासन ने विशेषज्ञों से मांगी राय
- हिडको की ओर से निविदा जारी

By: Vanita Jharkhandi

Published: 17 Sep 2020, 01:56 PM IST



न्यूटाउन. अब न्यूटाउन में ऐतिहासिक ट्राम चलाने की तैयारी की जा रही है। इच्छुक प्रशासन ने विशेषज्ञों की राय मांगी है। साथ ही आने वाले समय में न्यूटाउन की ट्रैफिक व्यवस्था कैसी हो सकती है। वाहनों की तादाद कितनी होगी? इन तमाम बातों पर भी गौर किया जा रहा है।
माना जा रहा है कि ट्राम को नई पहचान दिलाने की कोशिश के तहत प्रशासन ने यह पहल की है। पर्यटकों के लिए कोलकाता में खास पसन्द वाहन ट्राम है। मौजूदा समय में वाहनों की भीड़ में ट्राम का अस्तित्व बचाने की कवायद भी मानी जा रही है। ट्राम के इतिहास में नई कड़ी जुडऩे की तैयारी है। हिडको प्रशासन इस बारे में विचार कर रहा है। इसके लिए हिडको की ओर से एक निविदा जारी की गई है।
--
सभी पहलुओं पर गौर
हिडको ने अध्ययन करने के लिए विशेषज्ञ एजेंसियों की मदद मांगी है कि नारकेल बागान को एक्शन एरिया तीन के साथ जोडऩे के लिए उपयुक्त सार्वजनिक परिवहन क्या हो सकता है। हिडको यह जानना चाहता है कि इस क्षेत्र में एलआरटी, रोपवे या पॉड सेवाओं में से कौन सी उपयुक्त होगी और किस कंपनी को इसे बनाने की जिम्मेदारी दी जा सकती है।
--
निविदा में प्रस्ताव
निविदा के अनुसार, प्रारंभिक चरण में 10 किमी मुख्य लाइन और 3 किमी शाखा लाइन बनाने का प्रस्ताव है। उस स्थिति में 7 किमी लंबी एलआरटी हातीशला से नारकेलबगान तक बनाई जा सकती है। एलआरटी के माध्यम से अमेटी विश्वविद्यालय, महिषबाथान और शापूरजी हाउसिंग को नारकेलबागन से जोड़ा जा सकता है। पूरा प्रोजेक्ट पीपीपी मॉडल में होगा।
--
मोनो रेल पर भी विचार
हिडको के अनुसार एक्शन एरिया थ्री में वाहनों की संख्या अगले 40 वर्षों में कितनी बढ़ सकती है। विशेषज्ञों से उसके बारे में भी राय व जानकारी मांगी गई है। इसके अलावा हिडको के पास एक्शन एरिया थ्री में मोनो रेल के लिए 16 एकड़ जमीन है। न्यू टाउन में सभी भूमि सरकारी हाथों में है। नतीजतन, इस परियोजना में भूमि अधिग्रहण में कोई समस्या नहीं आने वाली है।
--
इनका कहना है
अभी हम सारे पहलुओं पर गौर कर रहे हैं। इसके लिए हम विशेषज्ञों से जानना चाहते हैं कि कैसे क्या हो सकता है। हमने इसके लिए कंसलटेंट के लिए निविदा जारी की है। वे सभी कुछ देखने के बाद डीपीआर देंगे। प्रतिक्रिया मिलने के बाद ही आगे का कदम उठाया जाएगा।
देवाशीष सेन, चेयरमैन, हिडको

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned