पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में 150 से अधिक बच्चे अस्पताल में भर्ती

देश में कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका अभी बन हुई है इस बीच पश्चिम बंगाल (west bengal) के जलपाईगुड़ी (jalpaiguri) जिले में 150 से अधिक बच्चों के बीमार होने की खबर ने सनसनी फैला दी है। जलपाईगुड़ी जिला अस्पताल में इन दिनों बीमार बच्चों का आना लगातार बना हुआ है। इन बच्चों में ज्यादातर खांसी, जुखाम और बुखार से पीडि़त हैं। इनमें से एक बच्चे में कोरोना संक्रमण की पुष्टि भी हुई है।

By: Krishna Das Parth

Updated: 13 Sep 2021, 11:21 PM IST

एक निकला कोरोना संक्रमित
-ज्यादातर जुखाम , खांसी व बुखार से पीडि़त
-कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के चलते बढ़ाई गई सतर्कता

कोलकाता.

देश में कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका अभी बन हुई है इस बीच पश्चिम बंगाल (west bengal ) के जलपाईगुड़ी (jalpaiguri) जिले में 150 से अधिक बच्चों के बीमार होने की खबर ने सनसनी फैला दी है। जलपाईगुड़ी जिला अस्पताल में इन दिनों बीमार बच्चों का आना लगातार बना हुआ है। इन बच्चों में ज्यादातर खांसी, जुखाम और बुखार से पीडि़त हैं। इनमें से एक बच्चे में कोरोना संक्रमण की पुष्टि भी हुई है। हालांकि अधिकतर बच्चों के लक्षण इन्फ्लूएंजा जैसे हैं, जो कोरोना के लक्षणों से मिलता-जुलता है।
एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि रोजाना इनफ्लूएंजा के लक्षणों के साथ 15 से 20 बच्चों को अस्पताल मे भर्ती किया जा रहा है। इनमें से 80 से 90 फ़ीसदी बच्चों की कोरोना जांच भी की गई है (Corona test of 90 percent of the children has done.)। एक बच्चा पॉजिटिव पाया गया है।
अधिकारियों ने बताया कि कोरोना संक्रमित मिले बच्चे को विशेष नवजात शिशुरोग विभाग में आइसोलेशन में रखा गया है। अन्य बीमार बच्चों की उम्र एक से चार साल के बीच है। अस्पताल में 45 बेड बढ़ाए गए हैं। ताकि और ज्यादा बच्चों को भर्ती किया जा सके।
अस्पताल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, आठ साल तक के बच्चों को बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षणों के साथ इन्फ्लूएंजा जैसी बीमारी है। स्वास्थ्य विभाग पूरी परिस्थिति पर नजर रख रहा है। देश में तीसरी कोरोना लहर की आशंका के चलते बड़ी संख्या में बच्चों के बीमार पडऩे से सतर्कता बढ़ा दी गई है। जानकारों का कहना है कि अक्तूबर तक तीसरी लहर असर दिखा सकती है। अभी दूसरी लहर से ही कई राज्य जूझ रहे हैं।

Krishna Das Parth Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned