तूफान से दूर रहे राजनीतिक वायरस- राज्यपाल

एक दूसरे से समन्वय बनाने का प्रयास सराहनीय

By: Rajendra Vyas

Updated: 19 May 2020, 10:55 PM IST

कोलकाता. कोरोना के बाद अब चक्रवाती तूफान को लेकर राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोला है। इशारों-इशारों में उन्होंने ममता बनर्जी को चक्रवात से मुकाबले के समय राजनीति नहीं करने की नसीहत दी है। मंगलवार उन्होंने एक के बाद एक दो ट्वीट किया। इसमें प्रधानमंत्री कार्यालय और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को टैग करते हुए उन्होंने लिखा कि चक्रवाती तूफान 20 मई को समुद्र तट से टकराएगा। उससे बचाव के लिए एक दूसरे से समन्वय बनाने का प्रयास सराहनीय है। आईसीजी के जहाज और विमान समुद्र में मछली पकडऩे गए मछुआरों की नौका को लौटने के लिए सटीक दिशा निर्देश कर रहे हैं। सटीक पूर्वानुमान के लिए हमारी वैज्ञानिक उपलब्धियों पर भी गर्व है जो बचाव के लिए तालमेल बनाने के प्रयासों में मददगार साबित हो रहे हैं। इन कोशिशों के समय में राजनीतिक वायरस को दूर रखा जाना चाहिए।
तूफान के वक्त न चले ट्रेन
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि प्राकृतिक आपदा के वक्त श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को कोई समस्या ना हो, इसे देखते हुए बुधवार दोपहर से गुरुवार तक कोई श्रमिक स्पेशल या विशेष ट्रेन नहीं चलाए जाएं। इसके लिए उन्होंने रेल मंत्रालय से बात करने का भरोसा दिया। ममता ने दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी के लिए और अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलवाने पर जोर दिया।
मुख्य सचिव से की बात
केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने मंगलवार को राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) की बैठक कर तूफान से निपटने के लिए पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए तैयारियों का जायजा लिया। माना जा रहा है कि अम्फान से नुकसान की संभावना गत वर्ष 9 नवम्बर को आए चक्रवाती तूफान 'बुलबुलÓ से हुई भारी क्षति से भी कहीं अधिक होने का अंदेशा है। बंगाल के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने एनसीएमसी को राज्य सरकार की ओर से किए गए प्रारंभिक उपायों से कैबिनेट सचिव को अवगत कराया।

Rajendra Vyas Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned