निजी अस्पतालों के गले नहीं उतर रही 'स्वास्थ्य साथी' योजना

निजी अस्पतालों के गले नहीं उतर रही 'स्वास्थ्य साथी' योजना
kolkata news

Shankar Sharma | Publish: Jun, 16 2017 11:40:00 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

पश्चिम बंगाल सरकार की स्वास्थ्य साथी योजना कोलकाता के निजी अस्पतालों के गले नहीं उतर रही है। इस योजना के तहत विभिन्न चिकित्सा पैकेज के अनुरूप चिकित्सा सेवा प्रदान करना अस्पतालों

कोलकाता. पश्चिम बंगाल सरकार की स्वास्थ्य साथी योजना कोलकाता के निजी अस्पतालों के गले नहीं उतर रही है। इस योजना के तहत विभिन्न चिकित्सा पैकेज के अनुरूप चिकित्सा सेवा प्रदान करना अस्पतालों के लिए मुमकिन नहीं हो रहा है। कोलकाता के कुछ चर्चित निजी अस्पतालों ने सरकार के प्रस्ताव को नकार दिया है पर कुछ ने इस मुद्दे पर अंतिम निर्णय पर पहुंचने के लिए आयोग से मोहलत मांगी है।

उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य आयोग ने हाल ही में इस संदर्भ में एक निर्देश जारी किया है। जिसमें आयोग ने स्वास्थ्य साथी योजना के बारे में निजी अस्पतालों  की राय मांगी है। सूत्रों ने बताया कि विभिन्न निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम प्रबंधन आयोग के प्रस्ताव को लेकर संशय में हैं।

गुप्त ठिकाने पर की बैठक
स्वास्थ्य साथी योजना के पैकेज को स्वीकारने पर अस्पतालों को भारी नुकसान होने तथा नहीं मानने पर सरकार के निशाने पर होने का भय है। इसे लेकर कोलकाता के निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम के मालिकों ने इस मुद्दे को लेकर किसी गुप्त ठिकाने पर बैठक की। सूत्रों के अनुसार उक्त बैठक में अधिकांश निजी अस्पताल और नर्सिंग होम के मालिकों ने स्पष्ट कर दिया कि स्वास्थ्य साथी योजना के विभिन्न पैकेज के अनुरूप मरीजों को अत्याधुनिक चिकित्सा परिसेवा प्रदान करना मुश्किल होगा। विशेषज्ञ चिकित्सक भी कम शुल्क में सेवा देने को तैयार नहीं होंगे। इसका असर चिकित्सा व्यवसाय पर पड़ेगा।

6 सप्ताह की मांगी मोहलत
फोर्टिस, बेल व्यू समेत कई अन्य निजी अस्पतालों ने सरकार को बता दिया है कि स्वास्थ्य साथी योजना पैकेज के अनुरूप चिकित्सा सेवा देना संभव नहीं है। जबकि डिसान, आमरी, सीएमआरआई, पियरलेस और अपोलो जैसे अनेक अस्पतालों ने अपने सुझाव देने के लिए सरकार से छह सप्ताह की मोहलत मांगी है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned