कांग्रेस के नेताओं के संबंध तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से : सिद्दीकी

-अब्बास ने कांग्रेस पर लगाए गंभीर आरोप
- प्रदीप भट्टाचार्य ने कहा झूठ बोल रहे आइएसएफ के नेता

By: Krishna Das Parth

Published: 01 Mar 2021, 10:56 PM IST

कोलकाता.
कांग्रेस और नवगठित पार्टी इंडियन सेकुलर फ्रंट (आइएसएफ) के बीच ठना विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। आइएसएफ के प्रमुख पीरजादा अब्बास सिद्दीकी ने प्रदेश कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने दावा किया है कि पार्टी के नेता के संबंध तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से हैं और चुनाव के बाद वह कांग्रेस छोडक़र तृणमूल का दामन थामने वाले हैं। सिद्दीकी ने यह भी कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रदीप भट्टाचार्य ने उनसे साफ तौर पर कहा है कि चूंकि गठबंधन के बाद कांग्रेस के पास सिर्फ 52 विधानसभा सीटें रह गई हैं इसलिए उनमें से कोई भी सीट आइएसएफ के साथ बांटी नहीं जा सकती।
इसके जवाब में प्रदीप भट्टाचार्य ने कहा कि उन्होंने ऐसी कोई बात नहीं कही है। अब्बास सिद्दीकी झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कांग्रेस के किसी नेता के तृणमूल कांग्रेस से मिले होने की बात से भी इनकार किया।
उल्लेखनीय है कि रविवार को ब्रिगेड रैली के मंच पर ही कांग्रेस के साथ सिद्दीकी की अनबन खुलकर सामने आ गई थी। सिद्दीकी ने अपने भाषण में सिर्फ वामो उम्मीदवारों को जिताने की बात कही थी, कांग्रेस उम्मीदवारों का नाम नहीं लिया था। इसकी वजह भी उन्होंने खुद बताई थी। सिद्दीकी ने कहा था कि वे गठबंधन में भागीदारी करने आए हैं, किसी को संतुष्ट करने नहीं।
उन्होंने वाममोर्चा के अध्यक्ष विमान बोस को उनकी तरफ से आइएसएफ को 30 सीटें दिए जाने पर शुक्रिया अदा किया। भाषण के दौरान कई बार वरिष्ठ माकपा नेता मोहम्मद सलीम का भी उन्होंने जिक्र किया था, लेकिन एक बार भी मंच पर मौजूद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी का नाम नहीं लिया था। कांग्रेस और आइएसएफ के बीच सीटों के बंटवारे पर अभी भी बात नहीं बन पाई है। सिद्दीकी ने हालांकि यह जरूर कहा कि कांग्रेस के लिए बातचीत के रास्ते अभी भी खुले हैं।

Krishna Das Parth Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned