खुला माझेरहाट लेबल क्रॉसिंग, दक्षिण कोलकाता के लोगों को राहत

- गाडिय़ों की आवाजाही शुरू

By: Ashutosh Kumar Singh

Published: 12 Oct 2018, 10:25 PM IST

लोक निर्माण विभाग सूत्रों के अनुसार ब्रिज से बहुत जल्द ही बड़े और भारी वाहनों का आवागमन भी शुरू कर दिया जाएगा। 80 फीट लम्बे ब्रिज के निर्माण में 21 करोड़ रुपए की लागत आई है। ब्रिज की भार वहन क्षमता 70 टन है।

कोलकाता

माझेरहाट ब्रिज हादसे के बाद ट्रैफिक की समस्या से परेशान दक्षिण कोलकाता के लोगों के लिए खुशखबरी! माझेरहाट ब्रिज के विकल्प के लिए तैयार नए लेबल क्रॉसिंग ‘बेली ब्रिज’ को गाडिय़ों के आवागमन के लिए खोल दिया गया। शुक्रवार से गाडिय़ों का आवाजाही शुरू हो गई। नए ब्रिज से फिलहाल केवल मोटरसाइकिल और छोटी गाडिय़ां चलेगी। बड़े और भारी वाहनों के आवागमन को प्रतिबंधित रखा गया है। लोक निर्माण विभाग सूत्रों के अनुसार ब्रिज से बहुत जल्द ही बड़े और भारी वाहनों का आवागमन भी शुरू कर दिया जाएगा। 80 फीट लम्बे ब्रिज के निर्माण में 21 करोड़ रुपए की लागत आई है। ब्रिज की भार वहन क्षमता 70 टन है। गहन परीक्षण के बाद बेली ब्रिज को खोला गया है। इस अवसर पर कोलकाता पुलिस के अतिरिक्त आयुक्त विनित गोयल, संयुक्त पुलिस आयुक्त (ट्रैफिक) मितेश जैन एवं लोकनिर्माण विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

विनित गोयल ने बताया कि खिदिरपुर की ओर से आने वाले वाहन न्यूअलीपुर के जी ब्लॉक होते हुए तारातल्ला पहुंचेंगे। उसी रूट से कोलकाता से खिदिरपुर की ओर जाने वाले वाहन भी चलेंगे। उल्लेखनीय है कि ४ सितम्बर को माझेरहाट ब्रिज एक हिस्सा ढह गया था। हादसे में ४ लोगों की मौत हो गई थी। 20 से अधिक लोग घायल हो गए थे। ब्रिज के ध्वस्त होने के दक्षिण कोलकाता के लोगों को मध्य कोलकाता आने-जाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता था।

मंत्री फिरहाद हकीम ने बेली ब्रिज का दौरा किया। उन्होंने कहा कि महज 38 दिनों में यह ब्रिज तैयार किया गया। इस तरह का काम केवल ममता बनर्जी की सरकार ही कर सकती है। इतने कम दिनों में ब्रिज तैयार किए जाने को लेकर फिरहाद हकीम ने लोकनिर्माण विभाग के मंत्री अरूप विश्वास को धन्यवाद दिया।

Ashutosh Kumar Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned