स्वामी विवेकानंद को याद किया

स्वामी विवेकानंद को याद किया

Vanita Jharkhandi | Publish: Sep, 11 2018 08:44:05 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

- राज्य में शंख बजाकर उत्सव मनाया गया

 

कोलकाता . स्वामी विवेकानन्द ने आज से 125 साल पहले शिकागो में अपने भाषण के जरिए विश्व के मानचित्र पर भारत को जिस ऊंचाई पर बैठाया था, उसकी याद में मंगलवार को पूरे राज्य में शंख बजाकर उत्सव मनाया गया। साढ़े 3 बजे शंखनाद करते हुए उस स्वर्णदिन को याद किया गया।
सिस्टर निवेदिता मिशन ट्रस्ट के वेल्यू ओरिएन्टड एडुकेशन के विद्यार्थियों को स्वामीजी के शिकागो सफर के बारे में बताया गया। यह आयोजन बंगाल के संगीताचार्य भीष्मदेव चट्टोपाध्याय के घर में किया गया। वहां से सभी पद यात्रा करते हुए स्वामी विवेकानन्द के पैतृक घर पहुंचे और स्वामी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किया। कई स्कूलों में भी आयोजन किया गया। विवेकानन्द केन्द्र की सभी शाखाओं में स्वाध्याय किया गया।

 


18 फुट से ऊंची गणेश प्रतिमाओं पर रोक

- दुर्घटना को टालने के लिए पुलिस की पहल

कोलकाता . गणेश पूजा के उत्सव पर किसी तरह की दुर्घटना न घटे इसके लिए पुलिस की ओर से विशेष हिदायत दी गई। जिसमें विशेष कर कहा गया है कि कोई प्रतिमा विराट आकार की न हो। सारी प्रतिमाएं 18 फुट से कम होनी चाहिए। सूत्रों के अनुसार गणेश पूजा के मौके पर महाराष्ट्र में बड़ी से बड़ी प्रतिमा की होड़़ रहती है। इसी को देखते हुए राज्य में भी गणेश पूजा बढ़ी है साथ ही मुम्बई की तर्ज पर कोलकाता में भी बड़ी से बड़ी प्रतिमा लाने की परम्परा चल पड़ी है। ऐसे में 20 फुट, 25 फुट की गणेश प्रतिमा का पण्डालों में लाना आम चलन हो गया था। गत साल ऐसी ही एक विराट प्रतिमा के विसर्जन के वक्त बिजली का तार छू जाने से तीन लोगों की मौत हो गई और आग लग गई थी। यह बड़ी घटना थी। क्योंकि प्रतिमा की ऊंचाई 25 फुट थी। सूत्रों के अनुसार गत वर्ष न्यूमार्केट थाना इलाके के उमा दास लेन स्थित क्लब ने गणेश पूजा का आयोजन किया था जिसकी प्रतिमा की ऊंचाई 25 फुट थी।

पुलिस का कहना है कि सारे आयोजकों से कहा गया है कि वे गणेश पूजा तो करे पर प्रतिमाएं विराट नहीं होनी चाहिए। सारी प्रतिमाएं 18 फुट से कम होनी चाहिए। पूजा आयोजकों ने भी पुलिस को भरोसा दिया है कि वे प्रतिमा छोटी लाएंगे। ऐसे में इस बार मुम्बई से भी मंगाई गई प्रतिमाएं 18 फुट से कम बताई गई है।

 

Ad Block is Banned