Corona suspects terror: विदेश से लौटे अनेक कोरोना के संदिग्ध मरीज नहीं कर रहे है खुद को क्वारंटाइन

हालही में different other countries से West bengal लौटे अनेक Corona suspected लोग state admnistration के लिए चुनौती और लोगों के लिए आतंक का कराण बनने लगे हैं। ऐसे लोग खुद के दूसरे देश से लौटने की बात छिपा रहे है और स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी किए गए quarantine के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं और नहीं वे Kolkata's Beliaghata ID hospital जा रहे हैं। इसको ले कर स्थानीय लोग आतंकित हो रहे हैं।

नहीं जा रहे हैं बेलियाघाटा आईडी अस्पताल भी, स्थानीय लोगों में आतंक, संदिग्घ कोरोना संक्रमित लोगों की तलाश कर रहा है प्रशासन
कोलकाता
हालही में विभिन्न दूसरे देशों से कोलकाता सहित पश्चिम बंगाल लौटे अनेक लोग राज्य प्रशासन के लिए चुनौती और लोगों के लिए आतंक का कराण बनने लगे हैं। ऐसे लोग खुद के दूसरे देश से लौटने की बात छिपा रहे है और स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी किए गए क्वारंटाइन के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं और नहीं वे बेलेघाटा आईडी अस्पताल जा रहे हैं। इसको ले कर स्थानीय लोग आतंकित हो रहे हैं।
ईटली में शोध कर रहा एक युवक गत नौ मार्च को वहां से हुगली जिला के चुचुरा लौटा, लेकिन वह खुद की जांच कराने के लिए बेलियाघाटा आईडी अस्पताल नहीं गया और न ही उसने स्थानीय प्रशासन को खबर दी। वह अपने घर में रहा, लेकिन उसकी ईटली से लौटने की खबर मिलने के बाद से चुचुरा नगरपालिका उस पर नजर रखी थी।

चुचुरा नगरपालिका के चेयरमैन गौरीकांन्त मुखोपाध्याय ने बताया कि जब से उक्त युवक के इटली से लौटने की खबर मिली तब से ही उस पर नजर रखी जा रही थी। दो दिन पहले जैसे ही जैसे ही उसकी तबियत बिगडऩे की खबर मिली उन्होंने जिला कलक्टर की इसकी सूचा दे दी। खबर मिलने के साथ ही जिला प्रशासन तत्पर हो गया। चुचुरा थाने की पुलिस ने बुधवार रात उक्त युवक को इमामबाड़ा सदर अस्पताल में भर्ती करा दिया, जहां उसे आईसोलेशन वार्ड में रखा गया है। फिलहाल उसकी शारीरिक स्थिति की जांच की जा रही है।

विदेश से लौटे अनेक कोरोना के संदिग्ध मरीज नहीं कर रहे है खुद को क्वारंटाइन

यही ही नहीं विदेश और दूसरे राज्य से लौटे दो अलग-अलग लोगों ने स्थानीय लोगों में आतंक फैला दिया है। हुगली जिले के बोलबा दादपुर ब्लॉक के एक व्यक्ति सौदी अरब से और दूसरा उत्तर प्रदेश के कानपुर से लौटा है। दोनों स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी निर्देशानुसार क्वारंटाइन के नियमों को नहीं मान रहे हैं। वे चारो तरफ घूम रहे हैं। हारिट ग्रामपंचायत प्रधान असित मालिक ने बताया कि उन्होंने इसकी खबर जिला प्रशासन को दी है।

इसी तरह बेंगलुरू में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में काम करने वाला एक कर्मी होली के दूसरे दिन से जिले के उत्तरपाड़ा के हिन्दमोटर्स इलाका पहुंचा। उसके बाद से उसे सर्दी और बुखार हो गया। लेकिन उसने खुद को क्वारंटाइन नहीं किया और न ही जांच कराने के लिए बेलियाघाटा आईडी अस्पताल गया। उसने स्थानीय डॉक्टर से इलाज कराया। फिर भी उसकी सर्दी और बुखार ठीक नहीं हुआ, बल्कि उसके साथ ही मां, पत्नी और बाप की भी तबियत बिगड़ गई।

डॉक्टरों ने उन्हें बेलियाघाटा आईडी अस्पताल जाने की सलाह दी, लेकिन वे नहीं गए। इसके बाद आस-पास के लोगों में आतंक फैल गया। स्थानीय लोगों ने इसकी शिकायत जिला प्रशासन की। तब जा कर स्थानीय पुलिस ने गुरुवार शाम को बेलियाघाटा आईडी अस्पताल में भर्ती करवा दी।
इसी तरह कुछ दिन पहले एक व्यक्ति मुम्बई से श्रीरामपुर में रह रहे अपने रिश्तेदार के पास आया था। उसके बाद से उक्त परिवार के कई सदस्यों को सर्दी और बुखार हो गया। इसकी खबर मिलते ही स्थानीय लोगों ने श्रीरामपुर थाना की पुलिस को सूचित कर दिया। पुलिस ने उक्त परिवार के सभी लोगों को श्रीरामपुर वाल्स अस्पताल में भर्ती करवाई, जहां से कोरोना के लक्षण नहीं पाए जाने पर सभी को घर में क्वारंटाइन करने को कहा है।

Manoj Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned