scriptSangeet Kala Mandir: Center of Sadhana | साधना का केंद्र संगीत कला मंदिर | Patrika News

साधना का केंद्र संगीत कला मंदिर

देश की श्रेष्ठ सांस्कृतिक संस्थाओं में से एक संगीत कला मंदिर में देश-विदेश के नामी गायक अपनी जादुई आवाज का जलवा बिखेर चुके हैं। प्रसिद्ध उद्योगपति बसंत कुमार बिड़ला ने कला तथा संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से देश की सांस्कृतिक राजधानी कोलकाता में संगीत कला मंदिर (ऑडिटोरियम) की स्थापना की थी। यह कहना है आनंद स्वरूप मिश्रा का। मिश्रा कला मंदिर की स्थापना में नींव के पत्थर हैं।

कोलकाता

Published: August 04, 2021 04:18:29 pm

मिश्रा ने अनछुए पहलुओं को पत्रिका से साझा किया
कोलकाता. देश की श्रेष्ठ सांस्कृतिक संस्थाओं में से एक संगीत कला मंदिर में देश-विदेश के नामी गायक अपनी जादुई आवाज का जलवा बिखेर चुके हैं। प्रसिद्ध उद्योगपति बसंत कुमार बिड़ला ने कला तथा संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से देश की सांस्कृतिक राजधानी कोलकाता में संगीत कला मंदिर (ऑडिटोरियम) की स्थापना की थी। यह कहना है आनंद स्वरूप मिश्रा का। मिश्रा कला मंदिर की स्थापना में नींव के पत्थर हैं।
सुर कोकिला लता मंगेशकर, आशा भोसले, किशोर कुमार, मोहम्मद रफी, मुकेश, महेन्द्र कपूर, मन्ना डे, गीता दत्त, तलत महमूद, ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी से लेकर अलका याज्ञनिक ने इस मंच पर प्रस्तुति दी है।
--
बतौर एकाउंटेंट जुड़े
उत्तर प्रदेश के कन्नौज के मिश्रा कलकत्ता विश्वविद्यालय से हिन्दी में एमए तथा एमकॉम करने के बाद 1961 में बतौर एकाउंटेंट संगीत कला मंदिर से जुड़ गए। कर्मठता और योग्यता को देखते हुए 1968 में मिश्रा को कला मंदिर तथा इससे जुडी चार अन्य संस्थाओं का मैनेजर बना दिया गया।आपने चार नाटकों में नायक की भूमिका निभाई। 56 साल के सेवाकाल में आपने 30 साल तक देवेन्द्र मंत्री के साथ कला मंदिर में काम किया। यह समय आपके लिए सर्वश्रेष्ठ और स्मरणीय था।
--
ऐसे हुई स्थापना
उद्योगपति बसंत कुमार बिड़ला के निर्देश पर मिश्रा ने थिएटर रोड इलाके में संगीत कला मंदिर के लिए 40 क_े की जमीन तलाश की। 1963 में साढ़े चार लाख रुपए में जमीन खरीदी। फिर एक अंग्रेज की जमीन भी 50 हजार रुपए में खरीद ली। प्रसिद्ध उद्योगपति और बीके बिड़ला के भाई घनश्याम दास बिड़ला ने कला मंदिर की आधारशिला रखी और हीरा लाल सोमानी ने भूमि पूजन किया। 16 दिसम्बर 1968 में मोरारजी देसाई ने इसका उद्घाटन किया।
--
सम्मान पाकर अभिभूत
50 साल तक सेवा कार्य करने के उपलक्ष्य में बीके बिड़ला ने सम्मान पत्र तथा चांदी का शील्ड प्रदान करते हुए मिश्रा को कला मंदिर में सम्मानित किया। वे सम्मानित होकर अभिभूत हो गए। मिश्रा बताते हैं एक बार लता मंगेशकर ने अपनी प्रस्तुति के दौरान कहा था कि जितना संतोष यहां मिला उतना लंदन के एल्बर्ट हाल में भी नहीं मिला।
--
फीस के दो रुपए भी नही होते थे
84 साल के मिश्रा ने बताया कि उन्हें यहां
तक पहुंचने में कड़ा संघर्ष करना पड़ा। पढ़ाई के दौरान कन्नौज में 2 रुपए फीस देने में दिक्कत होती थी। पिता किशोरी लाल मिश्रा (अब दिवंगत) कोलकाता में इत्र की बिक्री करते थे। करीब पांच साल पहले पत्नी माधुरी मिश्रा के निधन से गहरा आघात पहुंचा। मिश्रा ने अपना निवास कला मंदिर के पास ही ले लिया था,ताकि वे अपने कर्म क्षेत्र से भावनात्मक रूप से जुड़े रहे।
साधना का केंद्र संगीत कला मंदिर
साधना का केंद्र संगीत कला मंदिर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.