सारधा चिटफंड घोटाला : कुणाल घोष से सीबीआई ने की पूछताछ

सारधा चिटफंड घोटाला : कुणाल घोष से सीबीआई ने की पूछताछ

Ashutosh Kumar Singh | Publish: Sep, 03 2018 10:37:46 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

- पूर्व राज्यसभा सदस्य इस मामले में हुए थे गिरफ्तार
- फिलहाल हैं जमानत पर

कोलकाता

सारधा चिटफंड घोटाले में सीबीआई ने सोमवार को तृणमूल कांग्रेस से निलंबित पूर्व राज्यसभा सदस्य कुणाल घोष से पूछताछ की। जेल में बंद रहने के दौरान कुणाल घोष ने सीबीआई को एक पत्र लिखा था। पत्र में कुणाल घोष ने लिखा था कि वे सारधा समूह के चिटफंड के काले कारोबार और कंपनी प्रमुख सुदीप्त सेन के प्रभावशाली लोगों से संबंध के बारे में बहुत कुछ जानते हैं। सारधा समूह की काली कमाई में से बहुत से प्रभावशाली लोगों ने हिस्सा लिया है। कोई नकदी लिया है, तो कोई अन्य तरह की सुविधाएं ली है। उनके पास इस संबंध में पुख्ता सबूत है। कुणाल ने पत्र में सत्तारूढ़ दल के कुछ बड़े नेताओं का नाम भी लिखा था। कुणाल ने पत्र में यह भी लिखा था कि वे सब कुछ सीबीआई को बताना चाहते हैं। सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने उक्त चि_ी और उसमें लिखी बातों के बारे में पूछताछ के लिए कुणाल घोष को तलब किया था। केन्द्रीय एजेन्सी की ओर से कुणाल घोष को अपने आरोपो से संबंधित सबूत भी लाने को कहा गया था। सीबीआई के बुलावे पर ठीक लगभग 11:00 बजे कुणाल घोष साल्टलेक के सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित केंद्रीय जांच एजेन्सी के कार्यालय पहुंचे। उनसे कई घंटे तक पूछताछ की गई। वर्ष 2013 में सारधा चिटफंड घोटाला सामने आया था। मामले में कुणाल घोष को नवंबर 2013को सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। लगभग तीन साल बाद वर्ष 2016 में कुणाल घोष को जमानत मिली थी। जेल में बंद रहने के दौरान कुणाल घोष ने कई बार तृणमूल सुप्रीमो और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर भी चिटफंड के कारोबारी सुदीप्त सेन से लाभ लेने का आरोप लगाया था। कुणाल घोष से क्या पूछताछ की गई? कुणाल घोष ने सीबीआई को क्या बताया? अपने आरोप के समर्थन में क्या सबूत जमा किया? इस बारे में सीबीआई की ओर आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं बताया गया।

Ad Block is Banned