इलाज के लिए बेचना पड़ा घर

रोना के इलाज के दौरान इलाज का बिल चुकाने के लिए अपना एक मात्र घर भी बेच देना पड़ा। स्वस्थ होने के बाद मरीज के रहने के लिए जगह ही नहीं। सूत्रों के अनुसार गत मई महीने में राजारहाट पूर्वांचल के रहने वाले आकाश गुप्ता (42) कोरोना से पीड़ित हुए थे।

By: Vanita Jharkhandi

Published: 19 Jun 2021, 07:48 PM IST


विधान नगर
कोरोना के इलाज के दौरान इलाज का बिल चुकाने के लिए अपना एक मात्र घर भी बेच देना पड़ा। स्वस्थ होने के बाद मरीज के रहने के लिए जगह ही नहीं। सूत्रों के अनुसार गत मई महीने में राजारहाट पूर्वांचल के रहने वाले आकाश गुप्ता (42) कोरोना से पीड़ित हुए थे। पहले बीमार होने पर कांकुड़गाच्छी के एक नर्सिंग होम में भर्ती हुए थे। एकमात्र भरोसा था एक्स्ट्रा कंपो रियाल मेंब्रेन ऑक्सीजन की चिकित्सा चिकित्सक ने कहा कि आशीष के दूषित रक्त दान और जा रहा है उसके बाद उसमें उससे रक्त शुद्ध और दोनों ही काम नहीं करने के कारण आशीष बाबू को 16 के एक निजी अस्पताल में भर्ती करना वहां पर चिकित्सा का कर्ज 22 लाख रुपया है।वहां इलाज का खर्च साथ लाख आया था। हृदय और फुसफुस के काम न करने पर साल्टलेक के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां के आधुनिक उन्नत इलाज से ठीक तो हो गए पर बिल 22 लाख का आया। ऐसे में एक प्रमोटर को बुलाकर अपना फ्लैट बेचे दिया। उनका कहना है कि पता नहीं वे अस्पताल से कहा जाएंगे।

 

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned