सनसनी: दो तृणमूल कांग्रेस समर्थकों की गोली मारकर हत्या

सनसनी: दो तृणमूल कांग्रेस समर्थकों की गोली मारकर हत्या
kolkata news

Shankar Sharma | Publish: Jun, 16 2017 11:38:00 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

जयपुर थाना इलाके के चितनान घोड़ाबेडिय़ा टापू में शुक्रवार सुबह गोली मारकर दो तृणमूल कांग्रेस समर्थकों की हत्या कर दी गई

हावड़ा. जयपुर थाना इलाके के चितनान घोड़ाबेडिय़ा टापू में शुक्रवार सुबह गोली मारकर दो तृणमूल कांग्रेस समर्थकों की हत्या कर दी गई। पुलिस ने सगे भाइयों शेख लालचंद और शेख शाहजहान की हत्या के मामले के मुख्य आरोपी बिल्ला और बिल्लू सहित 12 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार ने बताया कि आरोपियों के यहां से हथियार भी मिले हैं। दोनों मृतक तृणमूल के स्थानीय नेता थे।

आरोपी बिल्ला और बिल्लू दोनों भाई हैं। पहले दोनों कांग्रेसी थे। इन दिनों तृणमूल से जुड़े हैं। जयपुर के चितनान टापू में कब्जे को लेकर इन दोनों  और शेख लालचंद व उसके भाई शेख शाहजहांन के बीच विवाद चल रहा था। बिल्ला व बिल्लू के गिरोह के लोगों ने दोनों भाइयों की गोली मार कर इसलिए हत्या कर दी, क्योंकि दोनों इलाके में विकास कार्य कर रहे थे स्थानीय लोगों के बीच उनकी पैठ अच्छी बन रही थी इसी वजह से बिल्ला व बिल्लू ने इस दोहरे हत्याकांड को अंजाम दिया।

घेराबंदी कर पकड़ा
एक महिला सहित दो लोगों को भी गोली लगी है। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वारदात के बाद जब आरोपी भाग रहे थे तभी ग्रामीणों ने पुलिस को खबर दी। पुलिस ने घेराबंदी कर इनको गिरफ्तार कर लिया। दोनों अपने साथियों के साथ नौका से हुगली के खानाकुल भागने की फिराक में थे।

आपसी रंजिश में हत्या
पुलिस ने बताया कि आपसी रंजिश के कारण ही दोनों भाइयों की हत्या की गई। बिल्ला व बिल्लू के संबंध माओवादियों से बताए जा रहे हैं। पिछले दस साल से इनका आतंक इलाके में चल रहा था। कई बार पुलिस ने इन दोनों को गिरफ्तार कर जेल भी भेजा था। इम्तियाज नामक एक नेता का संरक्षण इनको मिला हुआ था।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned