कोलकाता में अंधड़-बरसात ने मचाया कहर

कोलकाता में अंधड़-बरसात ने मचाया कहर

Shishir Sharan Rahi | Publish: Apr, 17 2018 10:31:49 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

अनेक स्थानों पर गिरे पेड़, 4 की मौत, 98 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवाएं, दुकानें-मकान ध्वस्त, हवाई सेवाएं बाधित, मेट्रो सेवा बंद ---सडक़ य

कोलकाता. पिछले कुछ दिनों से महानगर सहित बंगाल के अन्य स्थानों में गर्मी और उमस के तीखे तेवरों के बीच मंगलवार रात को अचानक मौसम ने पलटा खाया और 98 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अंधड़-तेज हवाओं के साथ बरसात ने कोलकाता सहित हावड़ा, हुगली आदि स्थानों में जमकर कहर बरपाया। एक ओर जहां महानगरवासियों को गर्मी से निजात मिली, तो दूसरी ओर तेज हवाओं के चलते कई स्थानों पर पेड़ गिरने से यातायात व्यवस्था चरमरा गई। अंतिम सूचना मिलने तक पेड़ गिरने के कारण 4 लोगों की मौत हुई, जिसमें एक महिला भी शामिल है। कई स्थानों पर पेड़ गिरने से अनेक दुकानें और मकान ध्वस्त हो गए। बेहाला के अशोक सिनेमा हॉल के समीप पेड़ गिरने से घायल एक व्यक्ति की मौत विद्यासागर अस्पताल में हुई। उधर लेनिन सरणी में यात्रियों से भरे एक ऑटो पर पेड़ और मकान का मलबा गिरने से ऑटो में सवार 5 यात्री गंभीर रूप से घायल हो गए। इनमें घायल एक महिला और एक पुरुष की अस्पताल में बाद में मौत हो गई। आनंदपुर में निर्माणाधीन मकान का हिस्सा गिरने से 2 लोग घायल हुए और एक की जान चली गई। अंधड़ और बरसात के समय ये लोग मकान के समीप खड़े थे। महानगर की लाइफलाइन मेट्रो सेवा मंगलवार रात 8.20 पर बंद हो गई। न केवल रेल-सडक़ यातायात, बल्कि हवाई सेवाओं पर भी अंधड़-तेज हवाओं का असर पड़ा। पटना-भुवनेश्वर और कोलकाता-अगरतला फ्लाइट में काफी विलंब हुआ, जिससे यात्रियों को परेशानी हुई। अंधड़ के साथ तेज हवाओं सहित बरसात से हावड़ा-सियालदह ट्रेन कुछ समय तक बंद रही, जिससे रात को घर लौटने वाले यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

इन स्थानों पर ज्यादा नुकसान
हवा की रफ्तार इतनी तेज थी कि हावड़ा रेलवे स्टेशन का लैम्पपोस्ट झूल गया। पूर्वी रेलवे मुख्यालय फेयरली प्लेस, जोड़ाबागान, बेहाला, बॉलीगंज, दमदम, अशोक सिनेमा हॉल, शोभाबाजार बस्ती, साल्टलेक और विक्टोरिया-स्ट्रेंड रोड सहित तमाम स्थानों पर पेड़ गिरने से व्यापक स्तर पर जानमाल को नुकसान हुआ। बांगुड़ विजन सेतु पर लैम्पपोस्ट गिरने से यातायात प्रभावित हुई। बंकिमसेतु का टीन शेड धराशायी हो गया।

-बंगाल में मानसून 10 जून तक
उल्लेखनीय है कि इससे पहले मौसम विभाग ने पूर्वानुमान सोमवार को जारी किया था। इसमें पूरे देश में 97 फीसदी बारिश की संभावना जताई गई थी। मौसम विभाग के अनुसार पूर्वोत्तर राज्यों में सबसे पहले सिक्किम में 5 जून, जबकि बंगाल में 10 जून तक मानसून के दस्तक देने की जानकारी दी गई।

गर्मी में कोहरे का कहर

अमूमन सर्दियों में घना कोहरा देखने को मिलता है, लेकिन मंगलवार को झारखंड में बंगाल सीमा तक जमशेदपुर एनएच-33 घने कोहरे की चादर में लिपटी नजर आई। विजिवलिटी इतनी कम थी कि गाडिय़ां
रफ्तार की बजाए रेंगने पर मजबूर हो गई।

Ad Block is Banned