राज्य के सरकारी स्कूलों में नहीं होगी परीक्षा पर चर्चा

राज्य के सरकारी स्कूलों में नहीं होगी परीक्षा पर चर्चा

Paritosh Dube | Publish: Feb, 15 2018 10:03:34 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

- परीक्षाओं के समय भाषण से भटकेगा ध्यान बोले राज्य के शिक्षामंत्री

- नहीं सुनाया जाएगा प्रधानमंत्री का भाषण
- शिक्षा विभाग ने जारी किया नोटिस

कोलकाता.

एक बार फिर राज्य सरकार ने केन्द्र सरकार की ओर से जारी किए गए निर्देशों को नहीं मानने संबंधी नोटिस जारी कर दिया है। शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के परीक्षा संबंधी भाषण 'परीक्षा पर चर्चा का राज्य के सरकारी स्कूलों में प्रसारण नहीं किया जाएगा। केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने सभी राज्य सरकारों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाषण सुनाए जाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए थे। हाल ही में प्रधानमंत्री की पुस्तक एक्जाम वॉरियर्स का विमोचन हुआ है। जिसके आधार पर वे शुक्रवार को परीक्षा पर चर्चा करेंगे।
पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य के सभी शैक्षणिक संस्थानों को नोटिस जारी कर कहा है कि वे मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से जारी निर्देशों की अनदेखी करें।

राज्य के शिक्षामंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि अभी परीक्षा का समय है। इस समय विद्यार्थी सालाना परीक्षाओं की तैयारियों में व्यस्त रहते हैं। उनका ध्यान भटकाना ठीक नहीं है। बोर्ड परीक्षाएं भी आने वाली हैं। कोई भी विद्यार्थी इस समय भाषण सुनने के लिए तैयार नहीं होगा। ऐसे समय में विद्यार्थियों को एक जगह इक_ा कर भाषण सुनने के लिए मजबूर करने को ठीक नहीं ठहराया जा सकता।

पहले भी किया है विरोध
इससे पहले भी कई बार राज्य सरकार ने केन्द्र के इस तरह के दिशानिर्देश मानने से इंकार किया है। जून 2017 में प्रधानमंत्री के मन की बात का प्रसारण करने पर मुख्यमंत्री ने महानगर के एक स्कूल की खिंचााई की थी। उन्होंने कहा था कि राजनीतिक कार्यक्रमों का कोई शैक्षणिक महत्व नहीं होता है।

इसके अलावा 8 सितम्बर 2017 को यूजीसी के कार्यक्रम मेंप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाषण का भी राज्य के उच्च शैक्षणिक संस्थानों में प्रसारण नहीं किया गया था।
31 अक्टूबर 2017 के दिन सरदार वल्लभभाई पटेल की जन्मजयंती पर मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से आयोजित देश व्यापी रन फॉर यूनिटी के आयोजन से भी राज्य सरकार के शिक्षा विभाग ने राज्य के शैक्षणिक केन्द्रों को दूर रखा था।

Ad Block is Banned