हिंदीभाषियों के हाथ में मेरी जिंदगी की स्टियरिंग : ममता

ममता ने चुनाव में हिंदीभाषियों से मंगी मदद

By: Krishna Das Parth

Published: 28 Jan 2021, 10:49 PM IST

कोलकाता.
ममता ने पहली बार सार्वजनिक रूप से यह भी कहा कि हमारे सुरक्षा गार्ड व ड्राइवर भी हिंदीभाषी हैं, जिनके हाथों में उनकी जिंदगी की स्टियरिंग है। ममता ने कहा राज्य में बड़ी संख्या में पुलिस व प्रशासन के शीर्ष आइएएस व आइपीएस अधिकारी बिहार-यूपी व हिंदीभाषी राज्यों से हैं जिन्हें उनकी सरकार ने महत्वपूर्ण पदों पर मौका दिया है। हमने बिहारी राजीव सिन्हा को मुख्य सचिव बना दिया था। डीजीपी बीरेंद्र हरियाणा से हैं। ममता ने और भी कई वरिष्ठ अधिकारियों का नाम गिनाया जो विभिन्न विभागों में सचिव व पुलिस में शीर्ष पदों पर तैनात हैं। ममता ने इस दौरान भाजपा का नाम लिए बिना कहा कि हम बाहरी की तरह गद्दार फोर्स नहीं हैं, जो सिर्फ चुनाव के समय वोट मांगने आते हैं।


पार्टी मुख्यालय में हिंदी भाषियों के साथ किया सीधा संवाद


पश्चिम बंगाल में सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस की ओर से भाजपा नेताओं को लगातार बाहरी करार दिए जाने को लेकर हिंदीभाषी मतदाताओं में बढ़ रहे असंतोष को देखते हुए अब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बेहद चिंतित हैं। वह डैमेज कंट्रोल में जुट गई है। ममता ने गुरुवार को कोलकाता में अपने पार्टी मुख्यालय में हिंदी भाषियों के साथ सीधा संवाद किया और उन्हें लुभाने की कोशिश की। ममता ने हिंदीभाषी लोगों से समर्थन की अपील करते हुए कहा कि हम पर भरोसा रखें।
मुख्यमंत्री ने इस दौरान पिछले 10 वर्षों के तृणमूल सरकार के शासनकाल में हिंदीभाषी लोगों के लिए किए गए कार्यों की उपलब्धियां भी गिनाई और कहा कि राज्य में हिंदी अकादमी से लेकर हिंदी विश्वविद्यालय और कॉलेजों की स्थापना सहित कई काम किए गए हैं। ममता ने कहा कि जब हम आपके साथ हर समय खड़े हैं तो फिर वोट के समय में हिंदीभाषी मतों का क्यों बंटवारा होना चाहिए।
भाजपा की ओर इशारा करते हुए ममता ने लोगों से उसकी बातों पर ध्यान नहीं देने की अपील करते हुए कहा कि हम चाहते हैं बंगाली से भी ज्यादा हमें बिहारी का वोट मिले।

हम पर भरोसा करें, हम वायदा नहीं तोड़ते

ममता ने कहा हम 365 दिन आपके साथ रहते हैं। हिंदीभाषी लोग मेरी मदद करें और सबकुछ हम पर छोड़ दें। ममता ने स्पष्ट कहा कि मैं मर जाउंगी लेकिन अपना वादा नहीं भूलुंगी ।
---
हिंदीभाषियों को लेकर अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस करने की घोषणा

ममता बनर्जी ने चुनाव के बाद हिंदीभाषियों को लेकर अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि हम विश्वभर से हिंदीभाषियों को इस कांफ्रेंस में बुलाएंगे।

Krishna Das Parth Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned