राज्यपाल और ममता सरकार में फिर ठनी

पश्चिम बंगाल में राज्य सरकार और राज्यपाल में फिर ठन गई है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के 3 नेताओं के खिलाफ सीबीआई को मामला चलाने की इजाजत दे दी है। इनमें से दो नेता सोमवार को मंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। इनमें फिरहाद हकीम और सुब्रत मुखर्जी शामिल हैं। इसके अलावा उन्होंने तृणमूल नेता मदन मित्रा और पूर्व मेयर शोभन चटर्जी के खिलाफ भी हरी झंडी दिखा दी है।

By: Rabindra Rai

Published: 09 May 2021, 11:04 PM IST

सीबीआई को तृणमूल के 3 नेताओं के खिलाफ मामला चलाने की दी इजाजत
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में राज्य सरकार और राज्यपाल में फिर ठन गई है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के 3 नेताओं के खिलाफ सीबीआई को मामला चलाने की इजाजत दे दी है। इनमें से दो नेता सोमवार को मंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। इनमें फिरहाद हकीम और सुब्रत मुखर्जी शामिल हैं। इसके अलावा उन्होंने तृणमूल नेता मदन मित्रा और पूर्व मेयर शोभन चटर्जी के खिलाफ भी हरी झंडी दिखा दी है।
सारधा घोटाला और नारद स्टिंग कांड की सीबीआई जांच कर रही है। अलग-अलग नेताओं के नाम इन मामलों में आए हैं। इन नेताओं के खिलाफ मामले को आगे बढ़ाया जाए इसको लेकर सीबीआई ने राज्यपाल से अनुमति मांगी थी।
शोभन चटर्जी नारद मामले में आरोपितों की सूची में शामिल हैं। दूसरी तरफ राज्य विधानसभा अध्यक्ष विमान बनर्जी ने कहा है कि सीबीआइ ने मुझे कोई पत्र नहीं दिया है। उच्च न्यायालय ने मुझसे बार-बार पूछा है, मैंने हमेशा कहा है कि हमें कोई पत्र नहीं मिला है। सीबीआइ के एक वकील ने कहा कि मामला अदालत के समक्ष लंबित है। मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा। सीबीआइ के एक सूत्र के अनुसार राज्यपाल द्वारा दी गई अनुमति के अनुसार भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धारा सात के तहत अदालत में आरोप पत्र दायर किया जा सकता है।
--
इसके तहत प्रदान की मंजूरी
राजभवन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि राज्यपाल ने संविधान के अनुच्छेद 164 के तहत इनके खिलाफ मुकदमे की मंजूरी प्रदान की है। बयान में कहा गया कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के अनुरोध करने और मामले से संबंधित दस्तावेज उपलब्ध कराने के बाद राज्यपाल द्वारा यह मंजूरी प्रदान की गई है। राज्यपाल ने इसके लिए संविधान के अनुच्छेद 163 और 164 के तहत प्राप्त अपनी शक्तियों का इस्तेमाल किया है। हालांकि अभी यह नहीं बताया गया है कि किस मामले में इन चारों पूर्व मंत्रियों के खिलाफ सीबीआई ने मुकदमा चलाने की अनुमति मांगी थी।
--
लोकसभा अध्यक्ष से अभी अनुमोदन नहीं
सीबीआइ सूत्रों के मुताबिक इस मामले में आरोपित छह सांसदों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने की आवश्यक अनुमति काफी समय पहले लोकसभा अध्यक्ष से मांगी गई थी। वो अनुमोदन अभी तक नहीं मिला है। गौरतलब है कि पत्रकार मैथ्यू सैमुअल ने 2014 में स्टिंग ऑपरेशन किया था जिसमें कई तृणमूल नेताओं को कैमरे के सामने रिश्वत लेते देखा गया था।

Rabindra Rai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned