एनआरसी पर बंगाल में आतंक

एनआरसी पर बंगाल में आतंक
एनआरसी पर बंगाल में आतंक

Vanita Jharkhandi | Publish: Sep, 21 2019 02:08:03 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

 

- पहचान पत्र के लिए कतार में खड़े व्यक्ति की हुई मौत

- आत्महत्या का भी मामला आया सामने

 

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में एनआरसी लागू किए जाने की आशंका गहराती जा रही है। इसे लेकर सीमायी इलाकों में लोग डरे हुए हैं। दो आत्महत्याओं के मामले सामने आए हैं।

जलपाईगुड़ी के मयनागुड़ी मेंएक युवक के गुरुवार को आत्महत्या का मामला सामने आया है। मृतक का नाम अन्नदा राय (42) है। बताया जाता है कि मयनागुड़ी के बड़कमात इलाके का निवासी अन्नदा एनआरसी लागू होने की आशंका से सहमा हुआ था। स्थानीय लोगों के मुताबिक उसकी पैतृक सम्पति के दस्तावेज उसके पास नहीं थे। उसे लग रहा था कि एनआरसी लागू होने पर उससे दस्तावेज मांगे गए तो वह नहीं दिखा पाएगा और जमीन से हाथ धोना पड़ेगा। उसके परिजनों के समझाने पर उसकी समझ में नहीं आ रहा था। गुरुवार को उसने फंदे पर लटक कर जान दे दी। मृतक के पास से कोई आत्महत्या विषयक नोट नहीं मिला है। इलाके में दहशत है।

इधर, मुर्शिदाबाद के डोमकल में भी एनआरसी लागू करने को लेकर अफवाह का बाजार गर्म है। बताया जाता है कि डोमकल के शिवनगर गांव का रहने वाला मिलन मंडल ने एनआरसी लागू होने की आशंका से आत्महत्या की है। वह रोजगार के लिए केरल में रह रहा था।

इधर, शुक्रवार की सुबह डिजीटल राशन कार्ड बनवाने के लिए कतार में खड़े एक व्यक्ति की तबीयत बिगड़ गई। अस्पताल ले जाने पर उसे मृत घोषित कर दिया गया। मृतक का नाम मोंटू सरकार है। वह पलाशडांगा का रहने वाला था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned