देश में क्रमिक आधार पर 4 राजधानियां हो: ममता

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 जयंती के मौके पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देश में क्रमिक आधार पर 4 राजधानियों की मांग उठाई। उन्होंने कहा कि एक राजधानी क्यों? साथ ही कोलकाता को देश की वैकल्पिक राष्ट्रीय राजधानी बनाए जाने की मांग की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरा मानना है कि भारत में क्रमिक आधार पर 4 राजधानियां होनी चाहिए।

By: Rabindra Rai

Published: 23 Jan 2021, 06:07 PM IST

कोलकाता को वैकल्पिक राजधानी घोषित करने की मांग
तृणमूल प्रमुख ने नेताजी जयंती पर 8 किलोमीटर लम्बे पैदल मार्च में लिया हिस्सा
कोलकाता. नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 जयंती के मौके पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देश में क्रमिक आधार पर 4 राजधानियों की मांग उठाई। उन्होंने कहा कि एक राजधानी क्यों? साथ ही कोलकाता को देश की वैकल्पिक राष्ट्रीय राजधानी बनाए जाने की मांग की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरा मानना है कि भारत में क्रमिक आधार पर 4 राजधानियां होनी चाहिए। संसद के चारों सत्र को देश के अलग-अलग स्थानों पर आयोजित किया जाना चाहिए। ममता ने कहा कि अंग्रेजों ने पूरे देश पर कोलकाता से शासन किया, देश में केवल एक ही राजधानी क्यों होनी चाहिए।
तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने महानगर के श्यामबाजार से धर्मतल्ला तक करीब 8 किलोमीटर लम्बे पैदल मार्च में हिस्सा लिया और फिर जनसभा को संबोधित किया। कोलकाता को वैकल्पिक राष्ट्रीय राजधानी की मांग की समर्थन में तर्क देते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि कोलकाता एक समय देश की राजधानी था। अंग्रेजों ने पूरे देश पर कोलकाता से शासन किया था। अंग्रेजों ने कोलकाता को यूं ही नहीं चुना था। उन्होंने लोकसभा में अपनी पार्टी के संसदीय दल के नेता सुदीप बंद्योपाध्याय से सदन में यह मांग उठाने को कहा। इसके साथ ही तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने केंद्र सरकार ने 23 जनवरी के दिन को सार्वजनिक अवकाश के तौर पर घोषित किए जाने की मांग दोहराई।
--
नीति आयोग के गठन पर उठाया सवाल
ममता बनर्जी ने योजना आयोग को हटाकर नीति आयोग के गठन की निंदा की। ममता बनर्जी ने कहा कि योजना आयोग का गठन नेताजी ने किया था। उन्होंने योजना आयोग के फिर से गठन की मांग की। नेताजी सुभाष डॉक का नामकरण डॉ. श्यामा प्रसाद के नाम पर किए जाने की भी निंदा की।
--
आजाद हिंद स्मारक बनाने का ऐलान
ममता बनर्जी ने कहा कि वह आजाद हिंद स्मारक का निर्माण करेंगी। हम बताएंगे कि यह कैसे किया जाएगा। हालांकि उन्होंने इसकी जगह, लागत और समय की बारे में कुछ नहीं कहा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने मूर्तियों के निर्माण और एक नए संसद परिसर के निर्माण में हजारों करोड़ रुपए खर्च किए हैं। हम आजाद हिंद स्मारक बनाएँगे।
----
पराक्रम दिवस के रूप में मनाए जाने पर कटाक्ष
ममता बनर्जी ने नेताजी जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाए जाने पर कटाक्ष किया और केंद्र सरकार द्वारा 23 जनवरी को पराक्रम दिवस घोषित करने के निर्णय की जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि हमने आज देशनायक दिवस मनाया है। रवींद्रनाथ टैगोर ने नेताजी को देशनायक कहा था। उन्होंने कहा कि केंद्र ने नेताजी का जन्मदिन पराक्रम दिवस के तौर पर घोषित करने से पहले मुझसे मशविरा नहीं किया था। उन्होंने युवाओं से नेताजी की विचारधारा को अपनाने की अपील की।
कोलकाता के श्यामबाजार से धर्मतल्ला तक करीब 8 किलोमीटर लम्बे पैदल मार्च में हिस्सा लेतीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी। पत्रिका

Rabindra Rai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned