मरणासन्न पिता ने अस्पताल में ही किया इकलौती बेटी का कन्यादान

- कैंसर पीडि़त पिता को कभी भी छीन सकती है मौत

 

 

हावड़ा . कैंसर की बीमारी से मरणासन्न स्थिति में पहुंच चुके पिता की आखिरी इच्छा थी कि वह अपनी इकलौती बेटी की शादी देख सके और उसका कन्यादान कर सके। ऐसे में अस्पताल में ही उसकी बेटी की शादी का प्रबंध करवाया गया। ताकि उनकी अंतिम इच्छा पूरी हो सके। यह मामला है कैंसर पीडि़त बरानगर के रहने वाले संदीप सरकार का। जो
हावड़ा स्थित एक सुपरस्पेशयलिटी अस्पताल में भर्ती है। इस अस्पताल में ही उनकी इकलौती बेटी की शादी संपन्न हुई।

सूत्रों के अनुसार बरानगर के रहने वाले संदीप सरकार की जीभ में कैंसर है। 2011 से उन्हें कैंसर ने जकड़ रखा था। ऑपरेशन के बाद उनकी हालत ठीक हो गई थी। छह साल पहले फिर से कैंसर ने उनको जकड़ लिया था। इस बार स्थिति काफी खराब हो गई थी। कैंसर फेंफड़ों तक फैल जाने के कारण से उनका खाना-पीना लगभग बंद हो गया था। संदीप की इच्छा थी कि वे अपनी इकलौती बेटी की शादी देखकर इस संसार से कूच करे। 16 फरवरी को बेटी की शादी होनी है। पर बीमारी इस कदर फैल चुकी है कि वे कभी भी इस संसार से कूच कर सकते हैं। डॉक्टरों की समझ में आ चुका है कि संदीप सरकार की मौत कभी भी हो सकती है। उनकी इच्छा को सम्मान देते हुए अस्पताल में ही शादी की तैयारी की गई। रजिस्ट्रार को बुलाया गया। रिश्तेदार भी शामिल हुए। संदीप ने अपनी बेटी की शादी होते हुए देखी। बेटी का कहना है कि पिता के चले जाना सबसे दुखद है पर मेरे जीवन की नई शुरुआत में उनका आशीर्वाद पाने से बड़ी सौगात दूसरी नहीं है।

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned