२०२ साल पुराने इस स्कूल में होगी नई व्यवस्था

-बांग्ला माध्यम होने के कारण घट रही थी छात्रों की संख्या
- एक से एक विभूति रहे हैं हिंदू स्कूल के छात्र

कोलकाता

उत्तर कोलकाता के 202 वर्ष के ऐतिहासिक हिंदू स्कूल में अब बांग्ला माध्यम के साथ ही अंग्रेजी माध्यम में भी पढ़ाई होगी। स्कूल की ओर से फिलहाल प्राथमिक स्तर पर अंग्रेजी माध्यम में पढ़ाई शुरू करने की मांग की गई है। स्कूल की ओर से राज्य के शिक्षा विभाग को यह आवेदन किया गया था। शिक्षा विभाग ने अंतत: स्कूल में अंग्रेजी माध्यम चालू करने की मांग पर मुहर लगा दी है। वर्तमान समय में कक्षा १२वीं तक के इस स्कूल में छात्रों की संख्या लगभग 1200 है।

मालूम हो कि हिन्दू स्कूल की स्थापना 20 जनवरी 1817 को हुई थी। उस दौरान देश में ब्रिटिश शासन चल रहा था। स्कूल शिक्षा आयुक्त सौमित्र मोहन ने शुक्रवार को हिन्दू स्कूल के प्रधानाध्यापक को उनके लिखे पत्र के जवाब में कहा कि अगले अकादमिक वर्ष से बांग्ला-माध्यम के साथ-साथ अंग्रेजी-माध्यम वर्ग में पढ़ाई शुरू होगी। हिंदू स्कूल की स्थापना 1817 में स्कॉटलैंड के समाजसेवी डेविड हेयर, विद्वान एवं विचारक राधाकांत देव और जाने-माने शिक्षाविद वैद्यनाथ मुखर्जी एवं अन्य ने की थी। पत्र में लिखा है कि नए वर्ग की शुरूआत मौजूदा संसाधन के साथ की जा सकती है और अगर स्कूल प्रबंधन को लगता है कि उसे अतिरिक्त आवश्यकता है तो उसकी विस्तृत जानकारी एक सप्ताह के अंदर स्कूल शिक्षा विभाग को दे। शिक्षामंत्री पार्थ चटर्जी ने इससे पहले कहा था कि राज्य के कुछ सरकारी स्कूल अगले सत्र से अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा प्रदान करेंगे।

बांग्ला माध्यम होने के कारण घट रही थी छात्रों की संख्या

स्कूल शिक्षा विभाग के सूत्रों की माने, तो कोलकाता के बांग्ला माध्यम के सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या दिनोदिन घट रही है। अंग्रेजी के बढ़ते प्रभाव व मांग के कारण लोग सरकारी बांग्ला माध्यम स्कूलों को छोड़कर निजी अंग्रेजी माध्यम की स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ा रहे हैं। बताया जा रहा है कि खत्म होते सरकारी स्कूलों को बचाने के लिए राज्य के शिक्षा विभाग ने अंग्रेजी माध्यम की पढ़ाई शुरू कराना चाहती है।

एक से एक विभूति हैं हिंदू स्कूल के छात्र

हिन्दू स्कूल के छात्रों में बंगाल की एक से एक विभूतियां रही हैं। इनमें सत्येंद्रनाथ टैगोर, ज्योतिन्द्रनाथ टैगोर, तारकनाथ पालित, भक्ति विनोद ठाकुर, व्योमेश चंद्र बनर्जी, सत्येंद्रनाथ बोस, छवि विश्वास, वीरेंद्रनाथ सरकार, नितिन बोस, मेघनाद साहा, माइकल मधुसूदन दत्त, प्रसन्न कुमार टैगोर, आनंदमोहन बोस, राधारमण मित्र सहित कई ऐसे नाम हंै जिन्होंने राष्ट्र के लिए काम किया।

Renu Singh Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned