करोड़ों के कार्गो हेराफेरी मामले में तीसरी गिरफ्तारी

- ग्राउंड हैंडलिंग कंपनी का कर्मी गिरफ्तार

By: Paritosh Dube

Published: 04 Jan 2018, 09:37 PM IST

- कार्गो के कंसाइनमेंट में रखा सामान बदलना, गलत तरीके से माल बाहर निकालने में करता था मदद

कोलकाता . नेताजी सुभाष चन्द्र बोस अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के कार्गों में सौ करोड़ रुपए की हेराफेरी के मामले में कस्टम्स की स्पेशल इंनवेस्टीगेशन ब्रांच (एसआईबी) की कार्रवाई जारी है। बुधवार को इस मामले में तीसरी गिरफ्तारी की गई। बुधवार की शाम को आउटसोर्सिंग कम्पनी भद्रा इंटरनेशनल के कर्मी सोमनाथ मजूमदार को गिरफ्तार किया गया। गुरुवार को सोमनाथ को अदालत में पेश किया गया। जहां उसे 16 जनवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। कम्पनी ग्राउंड हेंडलिंग का काम देखती है।

इससे पहले इस मामले में एसबीआई ने जिन दो लोगों को गिरफ्तार किया है वे दोनों एयरपोर्ट अथॉरिटी में कार्यरत है। जिनमें सम्पत नारायण मुखर्ज व एएआई का संयुक्त महाप्रबन्धक गिरीश शर्मा भी है।

क्या है आरोप
आधिकारिक सूत्रों के अनुसार सोमनाथ गेट पास देकर नियम विरुद्ध तरीके से सामान बाहर निकालने में मदद करता था। इसके साथ ही उसके तार सोना तस्करी से जुड़े गिरोह से भी बताए जा रहे हैं। यह भी सामने आया है कि सोमनाथ तस्करी के सोने को बाहर निकालने में मदद करता था। पूछताछ में उसने स्वीकार किया कि वह इस मामले में पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके सम्पत नारायण मुखर्जी की मदद करता था।

कार्गो में करोड़ो का गड़बड़झाला
एसआईबी सूत्रों के मुताबिक अक्टूबर 2017 में उसके जाल में फंसे एएआई के संयुक्त महाप्रबन्धक गिरीश शर्मा का नाम करोड़ों के कार्गो गड़बड़झाले में सामने आया था। अभी श्र्मा को अदालत से जमानत मिली है। वे हर रोज कस्टम्स के जांच अधिकारियों के सामने हाजरी लगा रहे हैं। वे कोलकाता से बाहर नहीं जा सकते। साथ ही उनके पासपोर्ट को जब्त कर लिया है।

इस मामले में सबसे पहली गिरफ्तारी १२ अक्टूबर को हुई थी। आरोपी सम्पत नारायण मुखर्जी को नाटकीय अंदाज से अस्पताल से गिरफ्तार किया गया था। उसे गिरफ्तार होने का अंदेशा था। उसके बाद जैसे ही वह अस्पताल से छूटा उसे वहीं से गिरफ्तार कर लिया गया था।

 

Paritosh Dube Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned