टीटागढ़ शूटआउट: 60 घंटे बाद भी वारदात के कारण पर पर्दा

टीटागढ़ शूटआउट: 60 घंटे बाद भी वारदात के कारण पर पर्दा

Ashutosh Kumar Singh | Publish: Oct, 31 2018 10:38:40 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

- पकड़े गए चार आरोपियों से गहन पूछताछ कर रही पुलिस

टीटागढ़

उत्तर 24 परगना जिले के टीटागढ़ के आर्य समाज मंदिर के पास शूटआउट के 60 घंटे बीत गए। वारदात के कारण पर अब भी पर्दा पड़ा है। पुलिस की ओर से अब तक इस बात का खुलासा नहीं किया गया कि दिन के उजाले में सरेआम तृणमूल कांग्रेस के वार्ड अध्यक्ष (21 नम्बर वार्ड) सीतश मिश्रा को गोली क्यों मारी गई। साधारण परिवार के एक युवक सतीश ने ऐसा क्या किया था जिसे मौत की नींद सुला दी गई? तृणमूल कांग्रेस के नेता वारदात के पीछे ट्रांसपोर्ट व्यवसायी भोला प्रसाद का हाथ बता रहे हैं। पुलिस की जांच में सामने आया है कि मृतक और आरोपी किसी का पुलिस में कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं है। किसी के खिलाफ थाने में पहले से कोई मामला नहीं है। हैसियत की बात करें तो मृतक और आरोपी की कोई तुलना नहीं है। अहम सवाल यह उठाता है कि है कि फिर ऐसा क्या हुआ जिसको लेकर नौबत मरने-मारने तक पहुंच गई? टीटागढ़ की जनता यह जानने के लिए बेताब है। बैरकपुर कमिश्ररेट के पुलिस अधिकारी घटना के बारे में आधिकारिक तौर पर अभी तक कुछ नहीं कहे हैं। इधर मारे गए सतीश मिश्रा के परिजनों से किसी को मिलने नहीं दिया जा रहा है। हालांकि मंगलवार को सतीश के भाई संतोष मिश्रा मीडिया के सामने आए थे। उन्होंने कहा था कि उनका भाई स्थानीय लोगों में दिन-ब-दिन लोकप्रिय हो रहा था। इसको लेकर भोला प्रसाद को जलन थी। जलन से उसके भाई की हत्या करा गई। लेकिन सतीश वार्ड 21 का निवासी था और भोला प्रसाद वार्ड नम्बर 20 में रहते हैं। अगर वार्ड नम्बर 21 में सतीश लोकप्रिय हो रहे थे तो भोला प्रसाद को उनसे क्यों जलन हो रही थी? टीटागढ़ के लोगों के जेहन में उठने वाले इन सारे सवालों के जवाब पर पर्दा पड़ा है। टीटागढ़ थाने के अधिकारियों का कहना है कि मामले की जांच जारी है। आरोपियों और कुछ संदिग्ध लोगों से पूछताछ की जा रही है। चंूकि मामला हाई प्रोफाइल का है इसलिए स्थानीय कोई भी व्यक्ति मामले में खुलकर कोई बात नहीं कर रहा है, लेकिन पूरे टीटागढ़ में उक्त शूटआउट काण्ड की ही चर्चा है। बुधवार को तीसरे दिन भी वारदात को लेकर बीटी रोड से सटे वार्ड नम्बर 21 क्षेत्र में सन्नाटा पसरा रहा। सडक़ के किनारे कालीपूजा के लिए भव्य पंडाल निर्माण का काम चल रहा था। वारदात के बाद से काम बंद है। सोमवार दोपहर लगभग १२ बजे सतीश मिश्रा को गोली मारी गई थी। देर रात कोलकाता के एक निजी अस्पताल में उनकी मौत हो गई थी। आरोप है कि भोला प्रसाद ने भाड़े के हत्यारों से वारदात को अंजाम दिलवाया है। भोला प्रसाद, अमरनाथ प्रसाद उर्फ काला मुन्ना एवं भाड़े के दो शूटर शेख समीर और संजय दास उर्फ राजू को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। भोला प्रसाद बीमार है। वह अस्पताल में भर्ती है। काला मुन्ना पुलिस हिरासत में तथा समार और संजय दोनों 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned