तंबाकू खाने वाले हर रोज दे रहे मौत को न्योता

WEST BENGAL NEWS: Tobacco eaters r giving death every day---पश्चिम बंगाल को तंबाकूमुक्त बनाने के लिए प्लेज फॉर लाइफ तंबाकू मुक्त युवा अभियान, 1.5 लाख सालाना मौत, बंगाल में 2 करोड़ लोग तंबाकू उपयोगकर्ता

 

कोलकाता. पश्चिमी बंगाल में तंबाकू से सालाना डेढ़ लाख की मौत होती है। प्रदेश को तंबाकूमुक्त बनाने के लिए प्लेज फॉर लाइफ तंबाकू मुक्त युवा अभियान का आगाज किया गया है। जिसमें राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) स्वयंसेवक मुख्य रोल अदा करेंगे। इसके लिए तंबाकू व अन्य उत्पादों की रोकथाम के लिए एनएसएस से 3200 युवा विभिन्न गतिविधियों का आयोजन करेगे। डा.केपी बसु मेमोरियल हाल में मंगलवार को जादवपुर यूनिवर्सिटी, संबंध हेल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) ने नारायण सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल हावड़ा, एप्सन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और विंडोज प्रोडक्शन की ओर से एनएसएस स्वयंसेवकों के लिए प्लेज फॉर लाइफ तंबाकू मुक्त युवा अभियान पर एक दिवसीय जागरुकता कार्यशाला का आयोजन किया। इसमें विश्वविद्यालय की 32 एनएसएस इकाइयों ने भाग लिया। वक्ताओं ने कहा कि बंगाल में तंबाकू के कारण हर साल 1,53,000 लोगों की मृत्यु होती है, 2 करोड़ से अधिक वयस्क तंबाकू का सेवन करते हैं और 438 बच्चे प्रतिदिन तंबाकू का सेवन शुरू करते हैं। अधिकारियों और स्वयंसेवकों ने खुद को तंबाकू से दूर रखने और दूसरों को इस घातक लत से दूर रहने के लिए प्रोत्साहित करने का संकल्प लिया। यूनिवर्सिटी के ज्वाइंट रजिस्ट्रार डॉ. संजय गोपाल सरकार ने कहा कि हम इस क्षेत्र में काम करने के लिए उत्साहित हैं क्योंकि हर साल इससे हो रही बंगालियों की मृत्यु की संख्या सुनकर चिंतित हैं। नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, हावड़ा के कैंसर सर्जन डॉ. सौरव दत्त ने कहा, तंबाकू का उपयोग शरीर के हर अंग को नुकसान पहुंचाता है। युवाओं में तंबाकू उत्पादों के सेवन की शुरूआत को रोकना तंबाकू महामारी को रोकने का सबसे अच्छा समाधान और उपाय है। युवा और खेल मंत्रालय, भारत सरकार, पश्चिम बंगाल में एनएसएस के माध्यम से तम्बाकू के उपयोग से होने वाले भारी स्वास्थ्य मुद्दों के समाधान के लिए पहल कर रहा है। क्षेत्रीय निदेशालय और राज्य राष्ट्रीय सेवा योजना ने प्लेज फॉर लाइफ - पश्चिम बंगाल में तंबाकू मुक्त युवा अभियान के लिए योजना बनाया है। अभियान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद प्रेरित और केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा समर्थित है। तंबाकू नियंत्रण प्रमुख और एसएचएफ के ट्रस्टी संजय सेठ, ट्रस्टी ने कहा दो करोड़ से अधिक लोग धूम्रपान और चबाने वाले तंबाकू का उपयोग करते हैं। इससे उपयोगकर्ताओं और गैर-उपयोगकर्ताओं दोनों पर प्रमुख स्वास्थ्य प्रभाव पड़ता है। बंगाल में औसतन प्रति दिन 9 सिगरेट और 29 बीड़ी धूम्रपान किया जाता है। प्रो. चितरंजन सिन्हा, डा.रामप्रसाद भट्टाचार्य, एनएसएस के पुलक दास, एसएचएफ डायरेक्टर आशिमा सरीन, कोर्डिनेटर आमिर खान, सुमंतो मंडल, संजिता सरकार, प्रतिमा रानि उपस्थित रहे। संचालन डा.ललिताभ महाकूड ने किया।

Shishir Sharan Rahi Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned