तृणमूल सांसद दोला सेना ने फिर की सीनाजोरी

तृणमूल सांसद दोला सेना ने फिर की सीनाजोरी

Shankar Sharma | Publish: Jun, 20 2015 07:00:00 AM (IST) Kolkata, West Bengal, India

णमूल कांग्रेस सांसद दोला सेन शुक्रवार को ट्रैफिक ड्यूटी पर तैनात सिविक पुलिसकर्मी पर सीनाजोरी दिखा कर एक बार फिर विवादों के घेरे में आ गई हैं

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस सांसद दोला सेन शुक्रवार को ट्रैफिक ड्यूटी पर तैनात सिविक पुलिसकर्मी पर सीनाजोरी दिखा कर एक बार फिर विवादों के घेरे में आ गई हैं। न्यूटाउन के चीनार पार्क मोड़ पर उन्होंने ट्रैफिक ड्यूटी पर तैनात सिविक पुलिसकर्मी को थप्पड़ मारने और नौकरी ने निकलवा देने की धमकी दी। सिविक पुलिसकर्मी का दोष सिर्फ इतना था कि ईमानदारी के साथ ड्यूटी करते हुए उसने दोला सेन को ट्रैफिक नियम का उल्लंघन करने से मना किया।

सूत्रों के अनुसार यह घटना सुबह लगभग साढ़े ग्यारह बजे की है। सत्तारूढ़ दल की राज्यसभा सदस्य दोला सेन अपनी गाड़ी से ट्रैफिक नियम का उल्लंघन कर उल्टी लेन से तेघरिया से चीनार पार्क की ओर आ रही थीं। वहां टै्रफिक ड्यूटी पर तैनात सिविक पुलिसकर्मी ने उनकी गाड़ी रोकी और कहां कि पीछे जाकर सही लेन में गाड़ी ले लीजिए। इस पर सांसद का चालक भड़क उठा। पहले उसने सिविक पुलिसकर्मी के साथ अभद्र व्यवहार किया। फिर दोला सेन सामने आ गईं। उन्होंने उसे थप्पड़ मारने और नौकरी से निकलवा देने की धमकी दी।

फिर कुछ दूर पर खड़े एएसआई को बुलाया और सिविक पुलिसकर्मी का नाम व पता पूछ कर कागज पर नोट किया। एएसआई ने जब दोला सेन से सिविक पुलिसकर्मी को माफ कर देने को कहा तो उन्होंने कहा कि उससे सड़क पर कान पकड़ कर उठक-बैठक करने को कहो। या फिर मैं उसे थप्पड़ मारूंगी। हालांकि दोला सेन ने इस घटना को झूठा बताया है। उनका कहना है कि इस तरह की कोई घटना नहीं घटी है। किसी पुलिस वाले के साथ उनका कोई विवाद नहीं हुआ है।

पुलिस के आला अधिकारी खामोश
विधाननगर कमिश्नरेट के पुलिस अधिकारी इस मामले में खामोश हैं। खबर लिखे जाने तक घटना के संबंध में मामला दर्ज नहीं किया गया था। सूत्रों के अनुसार पीडित सिविक पुलिसकर्मी ने अधिकारियों को घटना के बारे में बताया है। अधिकारियों ने उसे चुप रहने को कहा है। अधिकारियों ने उसे मामले को संभाल लेने का आश्वासन दिया है।
एडीसीपी ट्रैफिक शिवानी तिवारी और कमिश्नर जावेद शमीम से फोन पर सम्पर्क करने के लिए कई बार प्रयास किया गया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

पहले एनएचएआई गार्ड को मारा था थप्पड़
तीन साल पहले 18 फरवरी 2012 को दोला सेन ने दक्षिणेश्वर टोल प्लाजा पर पर नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) के गार्ड को थप्पड़ मारा था। गार्ड ने एक ट्रक को टै्रफिक नियमों का उल्लंघन करने पर रोक रखा था। ट्रक पर लदा माल मंत्री पूर्णेन्दु बसु के यहां जा रहा था। यह खबर मिलने के बाद दोला सेन वहां पहुंची और गार्ड को थप्पड़ जड़ दिया था। घटना के संबंध में दोला के खिलाफ पुलिस में मामला भी दर्ज किया गया था।


चीनार पार्क में हमारे साथ ऎसी कोई घटना नहीं घटी है। किसी पुलिसकर्मी के खिलाफ कोई आरोप नहीं है और न ही मेरे खिलाफ पुलिस में कोई मामला हुआ है।दोला सेन, तृणमूल सांसद व ट्रेड यूनियन नेता

दोला सेन ने मुझे थप्पड़ मारने और नौकरी से निकलवा देने की धमकी दी। मुझे कान पकड़ कर सड़क पर उठक-बैठक करने को कहा। उनकी गाड़ी उल्टी लेन से आ रही थी। उनके चालक ने भी अपशब्द कहे और धमकी दी। मेरा दोष सिर्फ इतना था कि मैंने उन्हें ट्रैफिक नियम का उल्लंघन कर उल्टी लेन से गाड़ी ले जाने से मना किया। पीडित सिविक पुलिसकर्मी
खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned