प्रधानमंत्री पर तृणमूल ने किया पलटवार

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सोमवार को पूरे देश के लोगो ने टीवी पर बंगाल पंचायत चुनाव में खुलेआम लोकतंत्र की हत्या होते देखा।

 

By: MANOJ KUMAR SINGH

Published: 16 May 2018, 05:06 PM IST

पीएम का बयान कर्नाटक में बहुमत नहीं मिलने का हताशा
कोलकाता
पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में भारी हिंसा को लोकतंत्र की हत्या करार दिए जाने के जवाब में तृणमूल कांग्रेस ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर पलटवार किया। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव पार्थ चटर्जी ने प्रधानमंत्री के बयान को कर्नाटक में उनकी पार्टी को बहुमत नहीं मिलने का हताशा करार दिया और भाजपा पर हत्या और हमला करने का आरोप लगाया।
पार्थ चटर्जी ने कहा कि बंगाल पंचायत चुनाव हिंसा पर प्रधानमंत्री के बयान से कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बहुमत नहीं मिलने का हताशा झलकता है। उन्होंने लोगों का ध्यान कर्नाटक की ओर से हटा कर बंगाल की ओर करने की कोशिश की। वे कर्नाटक में भाजपा की सरकार नहीं बन पाने से के कारण हताश है। बिना कोई विस्तृत जानकारी के प्रधानमंत्री को इस तरह की टिप्पणी नहीं करने से बचना चाहिए। बुधवार को राज्य के 568 बूथों पर पुनर्मतदान हो रहा है। ऐसे में इस तरह की निराधार झूठी खबरें क्यों फैलायी जा रही है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। वे इस दिन यहां प्रधानमंत्री के बायन पर प्रतिक्रिया दे रहे थे। इस दौरान उन्होंने उल्टे भाजपा पर हमला और हत्या करवाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव हिंसा में दूसरी पार्टियों की तुलना में सबसे अधिक तृणमूल कांग्रेस के 10 कार्यकर्ताओं की जाने गई हैं और अनेक घायल हुए हैं। भाजपा का कोई कार्यकर्ता नहीं मारा गया है। ये हत्याएं भाजपा के गुण्डों ने की है। पार्थ चटर्जी ने कहा कि अधिकतर हत्याओं और हिंसा की घटनाओं को प्रधानमंत्री की स्वयं की भाजपा ने अंजाम दिया है। मतदान से पहले पश्चिम बंगाल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा था कि हम उन्हें दिखायेंगे कि हिंसा क्या होती है। प्रधानमंत्री को पहले अपनी पार्टी को नियंत्रित करना चाहिए।
ये कहा था प्रधानमंत्री ने
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में हुई भारी हिंसा को लोकतंत्र की हत्या कहा था, जिसमें 21 लोगों की मौत हुई थी उन्होंने कहा कि सोमवार को पूरे देश के लोगो ने टीवी पर बंगाल पंचायत चुनाव में खुलेआम लोकतंत्र की हत्या होते देखा। कहीं भी लोकतंत्र को स्वीकृत नहीं दिया गया। निर्विरोध जीतने के लिए लोगों को नामांकन और मतदान नहीं करने दिया गया। चुनावी हिंसा में अनेक लोगों की हत्याएं हुई है। इसमें सिर्फ भाजपा के ही नहीं, बल्कि राज्य की सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस को छोड़ कर सभी दलों के लोगों की मौत हुई है। उस दौरान लोकतंत्र की भावना कहां थी। यह गहरा चिंता का विषय है। इसके खिलाफ सभी दलों और सिविल सोसाइटी को एकजुट होना चाहिए। पिछली सताब्दी से बंगाल हमेशा से बंगाल देश को हर मोड़ पर मार्ग दिखाया है, लेकिन सिर्फ राजनीतिक स्वार्थ के लिए उसी जमीन को लहुलुहान कर दिया गया। उस महान धरती पर लोगों की हत्या दुर्भाग्यपूर्ण है।

 

Prime Minister Narendra Modi
Show More
MANOJ KUMAR SINGH
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned