कोरोना के कारण सादगी से मनाए गए उत्सव

महालया व विश्वकर्मा पूजा पर नहीं दिखा पहले जैसा उत्साह

By: Rajendra Vyas

Published: 18 Sep 2020, 07:26 PM IST

कोलकाता. कोरोना का असर महालया व विश्वकर्मा पूजा पर नजर आया। गुरुवार की भोर में उगते सूरज के साथ ही महालय का स्वर हर घर से सुनाई पड़ा, पर दिन चढ़ते चढ़ते सभी का उत्साह धीमा पड़ता गया। जहां हर कारखाने व मशीनों की दुकानों में विश्वकर्मा पूजा की हर साल धूम होती थी वह बिल्कुल ही सूना था। लिलुआ में कल कारखाने में भी पूजा केवल औपचारिकता निभाते हुए ही नजर आई। राजारहाट में भी विश्वकर्मा पूजा में सिमटी हुई दिखी।
फूलमाला की कीमत बढ़ी

विश्वकर्मा पूजा व महालया पर बाजारों में फूलों की कीमत इतनी अधिक थी कि लोगों को एक-दो लेकर ही संतोष करना पड़ा। गेंदे की एक माला 30 रुपए, मटरमाला 10 रुपए व जबां की माला 40 से 50 रुपए में बिकी।
पैसे नहीं तो कैसे करें पूजा

विश्वकर्मा पूजा के लिए लोगों के पास पैसे नहीं होने के कारण जैसे-तैसे करके पूजा की गई। कहीं फोटो से तो कहीं छोटी प्रतिमा से काम चलाना पड़ा।
देवी पूजा के लिए एक महीने का इंतजार

हर साल महालया के दिन से ही दुर्गापूजा की रौनक दिखने लगती थी पर इस बार देवी के लिए एक महीने का इंतजार करना पड़ रहा है। कुछ लोगों का कहना है कि देवी जानती थी कि कोरोना का प्रकोप होगा इसलिए हमें एक महीने का समय दिया है। हम सभी प्रार्थना करते हैं कि पूजा तक कोरोना पर नियन्त्रण हो जाए।

Rajendra Vyas Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned