scriptWas selling death cup for years, but the SHO and MLA were ignorant | West Bengal-मालीपांचघड़ा शराबकांड : वर्षों से बेच रहा था मौत का प्याला, पर थानेदार व विधायक थे अनभिज्ञ | Patrika News

West Bengal-मालीपांचघड़ा शराबकांड : वर्षों से बेच रहा था मौत का प्याला, पर थानेदार व विधायक थे अनभिज्ञ

मौत के गुनहगार ने शराब में मिलावट करने को कबूला
-10 से ज्यादा की हो चुकी है मौत
-मरनेवालों में ज्यादातर गरीब मजदूर
-भाजपा ने की 15-15 लाख मुआवजा देने की मांग

कोलकाता

Published: July 21, 2022 10:47:16 pm

Kolkata .

West Bengal पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले के मालीपांचघड़ा Malipanchghada Liquor Case की गजानन बस्ती में वर्षों से मौत का प्याला बेचा जा रहा था, लेकिन थानेदार व स्थानीय विधायक दोनों ही अनभिज्ञ थे। दोनों का कहना है कि उन्हें इसके बारे में पता नहीं था कि गजानन बस्ती में अवैध शराब बेची जाती है। उनकी यह बात लोगों को पच नहीं रही है। लोग इस बात से आश्चर्य है कि बस्ती के बच्चे से लेकर बुढ़ों तक जब इस अवैध मधुशाले के बारे में जानते हैं, तो बस्ती से महज कुछ दूर पर स्थित थाने के अधिकारियों को क्यों नहीं पता चला। यह आश्चर्य है? रही बात बस्तीवालों की तो वे गुनहगार प्रताप कर्मकार के प्रताप से इतना भयभीत थे कि वे अपना मुंह उसके खिलाफ खोलने से डरते थे। नतीजतन चंद घंटे में 10 लोगों की मौत हो गई। अभी भी 30 लोग जीवन और मौत की लड़ाई लड़ रहे हैं। मरनेवाले सभी गरीब व मजदूर वर्ग के हैं। अब इनकी सदगति के लिए इनके शवों का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। घटना के बाद गुरुवार देर रात को शराब बेचने वाले प्रताप को गिरफ्तार किया गया। शुक्रवार को अदालत में पेश करने पर उसे 15 दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। उधर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने गुरुवार को घटनास्थल का दौरा किया और मृतक के परिजनों को 15-15 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग की। मामले को कोर्ट में भी ले जाने की चेतावनी दी।
West Bengal-मालीपांचघड़ा शराबकांड : वर्षों से बेच रहा था मौत का प्याला, पर थानेदार व विधायक थे अनभिज्ञ
West Bengal-मालीपांचघड़ा शराबकांड : वर्षों से बेच रहा था मौत का प्याला, पर थानेदार व विधायक थे अनभिज्ञ
आधे दर्जन घरों में चलाता था शराब में मिलावट करने का धंधा

अवैध देशी शराब का ठेक चलाने वाले प्रताप कर्मकार ने गिरफ्तारी के बाद पुलिस को बताया कि वह शराब में नशे के पावर को बढ़ाने के लिए उसमें मिलावट करता था। पुलिस सूत्रों के अनुसार प्रताप मालीपांचघड़ा थाने के पीछे ही गजानन बस्ती में अवैध रूप से शराब की बिक्री करता था। कुल आधे दर्जन घरों में वह शराब में मिलावट और बनाने के कारोबार करता था। प्रताप के खिलाफ आरोप लगाया गया है कि बंगला शराब की बोतलों में अधिक नशे के लिए नींद की गोलियों और अन्य रसायनों को मिलाकर बेचा करता था। वह शराब ऐसा बनाता था, ताकि थोड़े पीने से नशा ज्यादा हो जाता था। इसलिए वहां शराब पीने वालों की अधिक भीड़ उमड़ती थी।
फॉरेंसिक दल को भी मिले प्रमाण

घटनास्थल से आबकारी विभाग और फॉरेंसिक दल को इस तरह के प्रमाण भी मिले हैं। दूसरी ओर जांचकर्ताओं ने पाया कि शराब में जो मिश्रण किया जाता था, वह गलत तरीके से किया जाता था। गजानन बस्ती में मुख्य रूप से मुटिया, मजदूर या गरीब तबके के लोग रहते हैं। नतीजा यह हुआ कि उस झुग्गी बस्ती में दिन-रात कई लोग प्रताप के ठेक पर शराब पीने के लिए भी आते थे। मंगलवार को जिन लोगों ने शराब का सेवन किया उनमें अधिकत्तर उल्टी व दस्त करने के बाद एक के बाद एक दम तोड़ते रहे। स्थानीय लोगों को उसके बाद पता चला कि ये प्रताप के ठेक से शराब का सेवन किये थे। इसमें दस लोगों को जहरीली शराब पीने से मौत हुई। जबकि पुलिस ने सात की मरने की पुष्टि की है। तीन की मौत के कारण का पता नहीं चल पाया है। प्रताप सलकिया के कैवर्तापाड़ा लेन का रहने वाला है।
पिता से बिरासत में मिला था शराब का धंधा

स्थानीय सूत्रों के अनुसार प्रताप के पिता गजानन बस्ती में एक खटाल से सटे इलाके में शराब की दुकान चलाते थे। बाद में यह कारोबार प्रताप के हाथ में आ गया।
पुलिस से सांठ-गांठ व पहचान

स्थानीय निवासियों के अनुसार प्रताप का इलाके में काफी दबदबा है। पूरा इलाका उसके कब्जे में था। नतीजतन कोई भी उसके खिलाफ आवाज नहीं उठाता था। उसकी पुलिस व अन्य राजनीतिक लोगों से अच्छी जान पहचान थी। वह इतना प्रभावशाली था कि गजानन बस्ती को प्रताप की बस्ती के नाम से जाना जाता था। उसके खिलाफ कोई थाने में अगर शिकायत करता तो पुलिस शिकायत कर्ता को ही धमकाती और डराती थी। जहरीली शराब में मृतकों की संख्या बढ़ते ही प्रताप कर्मकार पुलिस के साथ थाने पहुंचा।
पुलिस ने कहा कि ठेक के बारे में जानकारी नहीं

मालीपांचघड़ा के प्रभारी अमित मित्रा से पूछा गया कि थाने के पीछे यह शराब का ठेक वर्षों से चलता था। उन्होंने कहा कि उन्हें पता नहीं था। जबकि जनता सीधे पुलिस पर ही आरोप लगा रही है। स्थानीय विधायक गौतम चौधरी ने भी पत्रकारों को बताया कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी।
बड़ी संख्या में पुलिस थी मौजूद

मृतकों के शव का पोस्टमार्टम मल्लिक फाटक में हो रहा है। वहां कोई अशांति न हो इसलिए विधायक गौतम चौधरी भी वहां पहुंच गए थे। उनके अलावा एसीपी हावड़ा व थाना प्रभारी समेत बड़ी संख्या में पुलिस वहां मौजूद रही।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'ममता बनर्जी को एक और झटका, अब पशु तस्करी केस में TMC नेता अनुब्रत मंडल को CBI ने किया गिरफ्तारCoal Scam: कोयला घोटाले मामले में ED ने पश्चिम बंगाल के 8 आईपीएस ऑफिसर को जारी किया समनजम्मू-कश्मीर के रामबन में लैंडस्लाइड व बादल फटने से दो लोगों की मौत, हिमाचल के कुल्लू में कई दुकानें बहीं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.