West Bengal: मुश्किल में Mamata Banerjee के भतीजे सांसद अभिषेक बनर्जी

West Bengal: मुश्किल में Mamata Banerjee के भतीजे सांसद अभिषेक बनर्जी

Prabhat Kumar Gupta | Updated: 11 Jul 2019, 06:16:39 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख तथा पश्चिम बंगाल की CM Mamata Banerjee के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं।

 

- 25 जुलाई को अदालत में हाजिर होने का दिया निर्देश
नई दिल्ली.

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख तथा पश्चिम बंगाल की CM Mamata Banerjee के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान कोलकाता एयरपोर्ट पर उनकी पत्नी रुजिरा नरुला पर कथित रूप से अवैध तरीके से सोना लाने जैसे विवाद को लेकर सुर्खियों में रहे अभिषेक एक बार फिर कानूनी पचड़े में फंसते दिख रहे हैं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की एक विशेष अदालत ने फर्जी डिग्री मामले में TMC MP अभिषेक बनर्जी को समन भेजा है। मामला Supreme Court के वकील सार्थक चतुर्वेदी ने दायर किया था। अदालत ने मामले की सुनवाई करते हुए बनर्जी को 25 जुलाई को कोर्ट में हाजिर होने का निर्देश दिया है। सूत्रों ने बताया कि लोकसभा चुनाव के दौरान अप्रेल महीने में Calcutta Airport पर रुजिरा के लगेज से सोना बरामद होने पर केंद्रीय सीमा शुल्क विभाग ने मुकदमा दर्ज किया था। इस मामले में पिछले 19 जून को कलकत्ता हाईकोर्ट ने रुजिरा को कोर्ट में पेश होने से 31 जुलाई तक छूट दी थी। जवाबी कार्रवाई करते हुए केंद्रीय सीमा शुल्क विभाग ने हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। तब कोर्ट ने Calcutta High Court का आदेश को बहाल रख दिया। इससे पहले अप्रैल महीने में अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने Show Cause नोटिस जारी किया था। उन पर ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया (ओसीआई) कार्ड हासिल करने के लिए तथ्य छुपाने का आरोप है।

सूत्रों ने बताया कि Ministry of Home Affairs का नोटिस विदेशी प्रभाग की ओर से 29 मार्च को रुजिरा नरूला को जारी किया गया। रुजिरा थाईलैंड की नागरिक हैं और उन्हें बैंकॉक में भारतीय दूतावास की ओर से 2010 में पीआईओ कार्ड जारी किया गया। इसमें उनके पिता का नाम निफोन नरूला बताया गया था। उक्त नोटिस के मुताबिक, जब रुजिरा ने अपने पीआईओ कार्ड PIO Card को OCI कार्ड में तब्दील कराने के लिए 2017 में कोलकाता में एफआरआरओ ऑफिस में आवेदन किया तो उन्होंने अपने विवाह के सर्टिफिकेट में पिता के संदर्भ में बताया कि दिल्ली के राजौरी गार्डन के निवासी गुरशरण सिंह आहूजा हैं।

अधिवक्ता की यह है दलील-
मामला सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता सार्थक चतुर्वेदी ने आदालत में दायर याचिका में कहा है कि सांसद अभिषेक पश्चिम बंगाल के डायमण्डहार्बर संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं। उन्होंने 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में दाखिल नामांकन में अपनी शैक्षणिक योग्यता के संदर्भ में गलत जानकारी दी थी। उन्होंने अपने नामांकन में खुद को BBA और MB की डिग्री हासिल होने की बात कही थी। उन्होंने दोनों डिग्रियां IIPM College दिल्ली से हासिल होने का उल्लेख किया है, जबकि दोनों ही जानकारी गलत है।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned