IPS राजीव कुमार की गिरफ्तारी का रास्ता साफ, अदालत ने...

IPS राजीव कुमार की गिरफ्तारी का रास्ता साफ, अदालत ने...
IPS राजीव कुमार की गिरफ्तारी का रास्ता साफ, अदालत ने...

Ashutosh Kumar Singh | Publish: Sep, 19 2019 10:16:40 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

- सारधा घोटाला: अलीपुर कोर्ट से नहीं मिली राहत

- अदालत ने कहा, गिरफ्तार कर सकती है एजेंसी, वारंट की जरूरत नहीं

- सीबीआई ने मारे छापे

कोलकाता

सारधा चिटफंड घोटाले में कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव कुमार की गिरफ्तारी का रास्ता गुरुवार को साफ हो गया। कोलकाता के अलीपुर कोर्ट के अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुब्रत मुखर्जी ने सीबीआई की ओर से राजीव कुमार के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट की मांग संबंधी याचिका पर फैसला सुनाते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा कि राजीव कुमार को गिरफ्तार करने के लिए सीबीआई को अदालत से वारंट जारी कराने की जरूरत नहीं है। सीबीआई गिरफ्तार कर सकती है। साथ ही राजीव कुमार की ओर से गिरफ्तारी के लिए राज्य सरकार की अनुमति जरूरी संबंधी याचिका को खारिज कर दिया। अदालत के इस फैसले के बाद से सीबीआई की टीम ने राजीव कुमार की तलाश तेज कर दी है। केन्द्रीय जांच एजेन्सी के अधिकारियों ने महानगर में जगह-जगह पर उनकी तलाश शुरू कर दी है। संभावित ठिकानों पर छापे मारे।
सुनवाई के दौरान सीबीआई के वकील ने अदालत को बताया कि आईपीएस राजीव कुमार कई बार नोटिस भेजे जाने के बावजूद चिटफंड घोटाले की जांच में मदद के लिए उसके समक्ष पेश नहीं हुए। वे जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। इसलिए उनकी गिरफ्तारी वारंट जारी किया जाए। राजीव कुमार के वकील ने दलील देते हुए कहा कि राजीव कुमार मामले के गवाह हैं। आरोपी नहीं हैं। इसलिए अदालत इस मामले में उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी नहीं कर सकती। जांच में सहयोग न करने के आरोप से इनकार करते हुए उनके वकीलों ने दावा किया कि कुमार फरार नहीं हैं और उन्होंने सीबीआई को सूचित किया है कि वह एक से 25 सितंबर तक उपलब्ध नहीं रहेंगे। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद जज ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। रात लगभग 9 बजे जज ने अपना फैसला सुनाया।

-----

IPS राजीव कुमार की गिरफ्तारी का रास्ता साफ, अदालत ने...

राजीव कुमार पर आरोप

कोलकाता पुलिस के पूर्व कमिश्रर राजीव कुमार पर सारधा समूह के महत्वपूर्ण सबूतों को नष्ट करने का आरोप है। सीबीआई के अनुसार सारधा समूह प्रमुख सुदीप्त सेन की लाल रंग की एक डायरी थी जिसमें राज्य के उन प्रभावशाली नेताओं के नाम हैं जिन्होंने उनसे मोटी रकम ली थी। कब किस नेता को कितना पैसा दिया गया, उस डायरी में नोट है। उक्त डायरी मामले की जांच के लिए राजीव कुमार के नेतृत्व में गठित स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम के सदस्य जब्त कर ले गए थे। उक्त डायरी पुलिस ने सीबीआई को नहीं सौंपी है।

-------
फिर भेजा नोटिस

इससे पहले दोपहर में सीबीआई ने गुरुवार को फिर राजीव कुमार को नोटिस भेजा। सीआरपीसी 160 के तहत नोटिस जारी कर उन्हें शुक्रवार को सुबह 11 बजे सीबीआई के अधिकारियों के समक्ष हाजिर होने को कहा था। इसके साथ ही

सीबीआई के अधिकारियों ने गुरुवार को 34 पार्क स्ट्रीट स्थित राजीव कुमार के सरकारी आवास, आईपीएस मेस सहित विभिन्न जगहों पर छापेमारी की। हालांकि उन्हें राजीव कुमार नहीं मिले। सीबीआई के अधिकारियों के अनुसार राजीव कुमार कोलकाता में ही कहीं हैं।

-----
राजीव कुमार हैं भूमिगत

पिछले शुक्रवार को कलकत्ता हाईकोर्ट ने मामले में राजीव कुमार की गिरफ्तारी पर लगे स्टे को हटा दिया था। तब से राजीव कुमार भूमिगत हैं। उनको कुछ पता नहीं है। राज्य के पुलिस महानिदेशक ने भी सीबीआई को लिखित रूप से बताया है कि राजीव कुमार का उन्हें कुछ पता नहीं है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned