सीएए-एनआरसी बंगाल की सीएम ने केंद्र को इस तरह दी चुनौती

नागरिकता संशोधित कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) के मुद्दे पर देश व्यापी आंदोलन के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र को चेतावनी दी है।

कोलकाता.
नागरिकता संशोधित कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) के मुद्दे पर देश व्यापी आंदोलन के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र को चेतावनी दी है। उन्होंने चुनौती भरे स्वर में कहा कि बंगाल में किसी भी हालत में सीएए और एनआरसी लागू नहीं होगा। उत्तर बंगाल की यात्रा पर सोमवार को सिलीगुड़ी पहुंची ममता ने उत्तर बंग उत्सव, 2020 के उद्घाटन मंच से केंद्र सरकार को एक बार फिर कड़ी चुनौती दी है।

उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो वह अकेले इस मुद्दे के खिलाफ लड़ाई लड़ेंगी। उल्लेखनीय है कि सीएए और एनआरसी को लेकर उत्तर बंगाल के लोग विशेष रूप से आतंकित हैं। उत्तर बंग उत्सव के मौके पर उपस्थित भीड़ को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सीएए और एनआरसी से चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। पश्चिम बंगाल सरकार और खुद वह इस मुद्दे पर जनता के साथ है। कोई आपके अधिकारों का हनन नहीं कर सकता। बंगाल की धरती हम सबकी है, बाहर से आकर कौन क्या बोल रहा है? इस पर ध्यान देने की जरूरत नहीं है।

ममता ने इस दिन अपने वक्तव्य में भाजपा का नाम नहीं लिया। गत लोकसभा चुनाव में उत्तर बंगाल में भाजपा को मिली जीत के प्रसंग पर ममता ने कहा कि वह केवल चुनाव के वक्त यहां की जनता का पहरेदार बनकर नहीं आतीं, वह 365 दिन के पहरेदार हैं। आम जनता के खिलाफ कभी कोई काम किसी को करने नहीं देंगी।

एनपीआर के प्रसंग पर ममता ने कहा कि पहले उन्हें लगा कि यह सेंसस है, पर इसके कागजात देखने पर पता चला कि इसमें माता-पिता का नाम, जन्म स्थान, उसका प्रमाण और प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है। जो वह खुद नहीं दिखा पाएंगी। ममता ने कहा कि सीएए और एनआरसी का विरोध करने वाले राज्य एनपीआर की बैठक में हाजिर हुए। लेकिन वह नहीं गईं।

Prabhat Kumar Gupta Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned